Saturday, September 29, 2012

चोरी करो और ईनाम ख़रीद लो latest mobile funda

अंबानी,टाटा, बिड़ला नाम सुनने पर अच्छे लगते हैं लेकिन जब आम आदमी की जेब इनकी कंपनियां काटती है तो, इन बड़े लोगों पर तरस भी आ जाता है कि यह लोग जो अरबों खरबों में खेल रहे हैं वह सब चोरी का पैसा है! यहां तक लगता है यह ईमानदारी से शायद दो रोटी भी खाने लायक पैसा नहीं कमा सकते! इससे अच्छा तो एक ईमानदारी आदमी ही है। जो भी व्यक्ति मोबाइल यूज करता है वह इस तरह की धांधलियों से बहुत परेशान हो जाता है। प्रीपेड यूजर तो कुछ कर ही नहीं सकते बजाय इसके कि वह कस्टमेयर केयर वाले को गाली दें। आपके मोबाइल से कब पैसे किस सर्विस का काट ले आपको पता ही नहीं चलेगा। कॉल रेट कब 1 पैसा है और कब 1 रूपए, अगर आपके पास टाइम हो तो कस्टमर केयर से पता करते रहिए। मोबाइल में पैसे डालते ही लगता है कि उस पर चोरों, डकैतों की नजर लग गई है। अगर उस पैसे को आपने उस दिन खत्म नहीं किए तो लालची मोबाइल कंपनियों 2—4 दिन में किसी न किसी तरह वह पैसा गायब कर ही देंगी। 10—50 रूपए करते—करते यह आंकड़ा 1000 में पहुंच जाता है और ऐसे ही करोड़ों मोबाइल यूजरों को मिला लिया जाए तो यह अरबों में पहुंच जाता है। इस समस्या से हर आदमी जो मोबाइल यूज करता है परेशान है। एक कंपनी जिसका बिना नाम लिए भी ​लोग जान जाएंगे, वह तो कुख्यात है कस्टमरों के पैसे हड़पने में। अभी इसी कंपनी का मैसेज मेरा पास आया जिसमें वह बता रही थी कि उसे सर्वश्रेष्ठ सर्विस का पुरस्कार मिला है। अब आप समझ सकते है कि उसे सर्वश्रेष्ठ का पुरस्कार इसलिए मिला कि पहले उसने आम लोगों के फटी जेब में भी डाका डाला और उस पैसे में से कुछ हिस्सा पुरस्कार बांटने वाले को खिला दिया होगा! इससे अच्छा तो यह होता कि यह कंपनी अपने ग्राहकों को फोन करके अपनी रिपोर्ट कार्ड बनवाती। अगर वह अच्छा होता तो वह वाकई में सर्वश्रेष्ठ बनने की हकदार होती न कि बिके हुए पुरस्कार ​मिलने से वह सर्वश्रेष्ठ हो गईं। यह तो सड़ाध को ढकने जैसा है।

क्या आपकी भी मोबाइल कंपनी चोर है?

मोहन कुमार   Saturday September 29, 2012

इंसानी दिमाग स्त्री और पुरुषों को अलग-अलग तरीके से देखता है


इंसानी दिमाग स्त्री और पुरुषों को अलग-अलग तरीके से देखता है. स्त्रियों का दिमाग भी यह भेदभाव करता है.

नज़र का फर्क 
यह शिकायत महिलाओं, बल्कि संवेदनशील पुरुषों की भी रही है कि समाज में स्त्री को एक वस्तु की तरह देखा जाता है, इंसान की तरह नहीं। मनोरंजन के साधन और व्यावसायिक हित महिलाओं को वस्तु की तरह पेश किए जाने को बढ़ावा दे रहे हैं। स्त्री-पुरुष बराबरी हासिल करने के लिए जरूरी है कि स्त्रियों को सिर्फ एक वस्तु नहीं, एक इंसान की तरह सम्मान देना जरूरी है। लेकिन इसके लिए यह जानना जरूरी है कि इस दुराग्रह या पक्षपात की जड़ें कितनी गहरी हैं। द यूरोपियन जर्नल ऑफ सोशल साइकोलॉजी में एक शोध प्रकाशित हुआ है, जिसके मुताबिक इंसानी दिमाग स्त्री और पुरुषों को अलग-अलग तरीके से देखता है। वह पुरुषों को अलग नजरिये से देखता है और स्त्रियों को अलग। इसी वजह से स्त्रियों को यौन सुख का एक साधन मानने की प्रवृत्ति विकसित हुई है। शोध एक चौंकाने वाला निष्कर्ष भी देता है कि सिर्फ पुरुषों का ही नहीं, स्त्रियों का दिमाग भी यह भेदभाव करता है।

Friday, September 28, 2012

अदरक खूबसूरती को भी बढाता है


खूबसूरती को बढाता है अदरक


 
 
 शरद ऋतु की भीनी भीनी ठंड के मौसम में मित्रों, सुबह – सुबह अदरक की चाय मिल जाए तो पूरा दिन ताजगी भरा हो जाता है। चाय के साथ – साथ भोजन को जायकेदार बनाने वाले अदरक की दिलचस्प बात ये है कि वो खूबसूरती को भी बढाता है।

स्वास्थ्यवर्धक आटा 50 रुपये किलो बेचना कितना उचित है ?


स्वास्थ्यवर्धक के नाम पर लूट !

आदरणीय स्वामी जी!
   आपकी बात मानकर मैं स्थानीय पतंजलि क्रयकेन्द्र पर गया तो वहाँ 5 अनाजों से निर्मित स्वास्थ्यवर्धक आटो का दाम पचास रुपये किलो था। 

स्वास्थ्यवर्धक नाम पर 50रुपये किलो आटा बेचना तो सरासर लूट है। क्या यही स्वदेशी आन्दोलन है। यह तो वही बात हुई कि स्वदेशी पहनो और गांधी जी के नाम से चल रहे श्री गान्धी आश्रम में अपनी जेब कटावा कर घर आ जाओ।
    आप राजनीतिक दलों को भ्रष्ट करार देते हैं लेकिन नैतिकता की आड़ में आप सन्यासी होकर अन्धाधुऩ्ध कमाई करने में लगे हो।
आप भी तो जनता की भावनाओं को भुनाकर अपने बन्धु-बान्धवों को सीधे रूप में धनवान बनाने में तुले हो! फिर क्या अन्तर रह जाता है आपमें और आपके द्वारा कथित भ्रष्ट राजनेताओं में ?

Posted by डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) 

Thursday, September 27, 2012

ऐन्टीसेप्टिक ऐन्टीबेक्टेरियल ऐन्टीवायरल ऐन्टीवर्म ऐन्टीऐलर्जीक ऐन्टीट्यमर है नीम


नीम कडवा है लेकिन इसके गुण मीठे है,तभी तो नीम के बारे मे कहा जाता हैकि सौ हकीम और एक नीम बराबर है।

घर में पिटाई क्यों सहती हैं बाहर बोल्ड रहने वाली महिलायें ?


स्क्रीन पर बोल्ड और घर में सहती थीं पति की मार !!

manisha koiralaमनीषा कोइराला और सम्राट दहल: मनीषा कोइराला और सम्राट दहल का विवाह वर्ष 2010 में हुआ था. लेकिन विवाह के कुछ महीनों बाद ही मनीषा और उनके पति के बीच तनाव की शुरुआत हो गई. मनीषा कोइराला ने अपने पति के खिलाफ पुलिस कंप्लेंट भी की थी. उन्होंने अपनी शिकायत में कहा थी कि उनके पति उन्हें प्रताडि़त करते हैं जिसके चलते उन्होंने तनाव में आकर आत्महत्या करने का भी प्रयास किया था. नेपाल के एक अखबार के अनुसार शादी के कुछ महीने बाद ही मनीषा अलग रहने लगी थीं. उन्होंने तलाक की अर्जी भी  दायर की हुई है. फिलहाल मनीषा कोइराला मुंबई में रहती हैं.
कुछ अन्य उदाहरण और भी हैं, देखें-
http://entertainment.jagranjunction.com/2012/09/20/bollywood-actress-real-life-stories-hot-shweta-tiwari-zeenat-aman/

Tuesday, September 25, 2012

उसने कहा था...: ऑडिशन के लिए मिली थी सिर्फ़ एक लाइन-टीकू तलसानिया

Monday, September 24, 2012

कैंसर कोशिकाओं का सफाया करने में कीमोथेरेपी से अधिक असरदार है Leamon


Tibbe Nabvi

 

Prophetic Healing Method


कैंसर का विनाशक 
नींबू में कैंसर कोशिकाओं का सफाया करने की चमत्कारिक क्षमता है। नींबू सभी प्रकार के कैंसर के बचाव और उपचार में बहुत कारगर है। यह कीमोथेरेपी से अधिक असरदार साबित हुई है। इसका स्वाद उम्दा है और शरीर पर कोई कुप्रभाव भी नहीं होता है। नीबू का सेवन कीमो और रेडियो के कुप्रभावों को भी कम करता है। शोधकर्ताओं ने नीबू में कुछ ऐसे तत्वों का पता लगाया है जो आँत, स्तन, प्रोस्टेट, फेफड़ा, अग्न्याशय आदि समेत 12 प्रकार के कैंसर में बहुत असरदार है। ये तत्व प्रचलित कैंसररोधी दवा एड्रियामाइसिन से 10,000 गुना असरदार है। विशेष बात यह है कि ये तत्व सिर्फ कैंसर कोशिका को ही मारते हैं, स्वस्थ कोशिकाओं पर कोई बुरा असर नहीं डालते।
रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है
नीबू के जूस से शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है लेकिन इससे मोटापा नहीं बढ़ता है। पानी में नीबू और शहद मिला कर रोज पीने से आप बिना कमजोरी के वजन घटा सकते हैं।
See:


Sunday, September 23, 2012

गर्भावस्था में क्या खाएं कि शिशु रहे हेल्दी ?


गर्भावस्था में अंडे और मांस के सेवन से फायदा

गर्भावस्था में अंडे और मांस के सेवन से शिशु को होगा फायदा गर्भवती महिलाएं अगर अंडे और मांस का अधिक मात्रा में सेवन करें तो उनके बच्चों को बड़े होने पर तनाव संबंधी बीमारियां होने का खतरा कम हो जाता है। एक नए अध्ययन में कार्नेल यूनिवर्सिटी और यूनिवर्सिटी ऑफ रोचेस्टर मेडिकल सेंटर के वैज्ञानिकों ने कहा है कि अंडे और मांस में कोलिन नामक पोषक तत्व पाया जाता है। अगर गर्भावस्था के दौरान कोलिन का आहार के साथ अधिक मात्रा में सेवन किया जाए तो बच्चों के बड़े होने पर इसके बहुत लाभ मिलते हैं।
Read More...

Saturday, September 22, 2012

एक ज़बरदस्त विलाप प्रसंग पर ब्लॉगर्स के नज़रिए & Bank passbooks distributed to widows

शाब्दिक और अलंकारिक अर्थों में फर्क होता है .कई बार उद्धरण सीधे शाब्दिक या अभिधामूलक न होकर लक्षणा या व्यंजना का भाव लिए रहते हैं. शाब्दिक अर्थ में तो पति के दिवंगत होने के बाद नारी का क्रंदन ही विधवा विलाप होता है .मगर अपने लाक्षणिक और व्यंजनात्मक अर्थों में यह एकदम अलग भाव संप्रेषित करता है -वहां कोई जरुरी नहीं है कि नारी का ही विधवा विलाप हो -कोई पुरुष ,कोई राजनीतिक पार्टी भी किसी मुद्दे को लेकर ध्यानाकर्षण के मकसद से विधवा विलाप कर सकती है . यहाँ विधवा विलाप का मतलब ध्यानाकर्षण के लिए अत्यधिक और बहुधा निरर्थक  प्रयास से है -जैसे लोग घडियाली आंसू बहाते हैं -उसी तरह विधवा विलाप भी कर सकते हैं! समझ में नहीं आता इस सामान्य सी बात को न समझ कर इन दिनों कुछ ख़ास लोग ब्लॉग जगत में क्यों विधवा विलाप/ किये जा रहे हैं .
देखें-


...और यह पुरानी पोस्ट भी देखने लायक़  है-
Ward Councilor Shahzadi Begum distributed bank passbooks under Laxmi Bai Social Securities and Widow Pension Scheme in Patna on March 6, 2010.
Photo: Aftab Alam Siddiqui


Thursday, September 20, 2012

अमृता प्रीतम के फिल्म निर्माता बेटे नवराज क्वात्रा की हत्या कर दी गई. घर से कई अभिनेत्रियों और मॉडलों के अश्लील वीडियो और फोटोग्राफ्स मिले.

पिछले दिनों अमृता प्रीतम के बेटे नवराज क्वात्रा जो फिल्म निर्माण से जुड़े हैं, की उनके निवास में हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने इस मामले की जांच शुरू की है और पुलिस को प्राथमिक जांच में ही जो तथ्य हाथ लगे हैं, उसने पुलिस को भी चौंका दिया है। पुलिस को नवराज के घर से कई अभिनेत्रियों और मॉडलों के अश£ील वीडियो और फोटोग्राफ्स मिले हैं। इसके अलावा पुलिस ने यह भी पाया कि नवराज के घर के हर कमरे में सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। उनके बाथरूम तक में सीसीटीवी कैमरे पाए गए हैं। उनके बेडरूम में लगे सीसीटीवी कैमरे में कई नामचीन हस्तियों के अश्‍लील वीडियो पुलिस को मिले हैं। कई अश्‍लील सीडी, सेक्स टॉयस और वियाग्रा की गोलियां मिली हैं।

जो लोग शॉर्टकट से नहीं कमाते, उनके बच्चों को भी बदमाश उठा ले जाते हैं और बहुत से नेक आदमी भी लुटेरों ने और घरेलू नौकरों ने मार गिराए हैं।
यही सब देखकर लोग शॉर्टकट अपनाते हैं कि सुरक्षित यहां कोई भी नहीं है।
जब तक सच्चे मालिक का डर नहीं होगा कि वह बुरे काम के बदले में सज़ा ज़रूर देगा तब तक नैतिकता का पाठ पढ़ाने से कोई मानने वाला नहीं है। गुनाह में मज़ा तुरंत जो आता है और बहुत आता है भाई साहब .

 देखिये 

खतरनाक होता है धन कमाने का शार्टकट

नवराज क्वात्रा
जब यह खबर आई थी कि जानी मानी लेखिका अमृता प्रीतम के फिल्म निर्माता बेटे नवराज क्वात्रा की हत्या कर दी गई तो यह खबर काफी दुखद  लगी थी। वैसे तो नवराज के नाम से उनको फिल्मी दुनिया से जुड़े लोग ही जानते रहे होंगे, पर अमृता प्रीतम के नाम से साहित्य से क्षणिक रूप से जुड़े लोग भी जान गए। सबने दुख जताया था कि अमृता प्रीतम के बेटे की हत्या हो गई। बाद मे पुलिस ने मामले की जांच शुरू की और जांच जिस दिशा में जा रही है, उसने कई सवाल खड़े कर दिए हैं। यह सोचने पर भी मजबूर कर दिया है कि धन की लालसा इंसान को कहां ले जाती है। अच्छे मां बाप, अच्छे संस्कार होने के बाद भी कोई इंसान सिर्फ धन कमाने के लिए क्या क्या रास्ता अख्तियार कर लेता है? 
-Atul Shrivastava 

ग़ज़लगंगा.dg: कुछ आंसू घडियाली से

मौसम की बदहाली से.
पत्ते छूटे डाली से.

टप-टप आंखों से टपके
कुछ आंसू घडियाली से.
ग़ज़लगंगा.dg: कुछ आंसू घडियाली से:

'via Blog this'

Sunday, September 16, 2012

नास्तिकता निराशा से भर देती है Nastik

नास्तिकता निराशा से भर देती है Nastik

DR. ANWER JAMAL at अटल सत्य
आज हिंदुस्तान (अंक दिनांक 15 सितंबर 2012) में ख़ुशवंत सिंह जी का लेख पढ़ा। ज़िंदगी की ऐश लेने के लिए जितनी भी ज़रूरी चीज़ें हैं वे सब उनके पास हैं। इसके बावजूद वह ज़िंदगी से आजिज़ आ चुके हैं। वह लिखते हैं- 
अब मैं अपनी जिंदगी से आजिज आ गया हूं खुशवंत सिंह, वरिष्ठ लेखक और पत्रकार पिछले 15 अगस्त को मैं 98 साल का हो गया। फिलहाल मेरी सेहत का बुरा हाल है। इसलिए यह कॉलम लिखना बहुत मुश्किल हो गया है। मैं पिछले सत्तर साल से लगातार लिखता रहा हूं। लेकिन अब तो सच यह है कि मैं मरना चाहता हूं। मैंने बहुत जी लिया। अब मैं जिंदगी से आजिज आ गया हूं। आगे देखने के लिए मेरे पास कुछ भी नहीं है। मैं जो भी... more »

Saturday, September 15, 2012

ग़ज़लगंगा.dg: हमने रिश्ता बहाल रखा था

एक सांचे में ढाल रखा था.
हमने सबको संभाल रखा था.

एक सिक्का उछाल रखा था.
और अपना सवाल रखा था.

सबको हैरत में डाल रखा था.
उसने ऐसा कमाल रखा था.

कुछ बलाओं को टाल रखा था.
कुछ बलाओं को पाल रखा था.

हर किसी पर निगाह थी उसकी
उसने सबका ख़याल रखा था.

गीत के बोल ही नदारत थे
सुर सजाये थे, ताल रखा था.

उसके क़दमों में लडखडाहट थी
उसके घर में बवाल रखा था.

उसकी दहलीज़ की रवायत थी
हमने सर पर रुमाल रखा था.

साथ तुम ही निभा नहीं पाए
हमने रिश्ता बहाल रखा था.

-देवेंद्र गौतम
ग़ज़लगंगा.dg: हमने रिश्ता बहाल रखा था:

'via Blog this'

आरएसएस के पूर्व सरसंघ चालक सुदर्शन जी का निधन


फाइल फोटो
नागपुर: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के पूर्व सरसंघ चालक के.एस. सुदर्शन का शनिवार तड़के करीब साढ़ छह बजे छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. 
वह 81 वर्ष के थे. उनके घर में उनके भाई हैं. उनका जन्म भी 1931 में रायपुर में ही हुआ था. 
वे दो दिन पहले रायपुर आए थे और कल शाम उन्होंने बीजेपी के पूर्व राज्य सभा सांसद गोपाल व्यास की किताब का विमोचन भी किया था.रोज़ की तरह वे आज सुबह की शाखा मे भी शामिल हुए थे लेकिन इसके बाद अचानक उन्हे दिल का दौरा पडा और उनका निधन हो गया. 
सुदर्शन बीते कुछ समय से बीमार चल रहे थे और उनकी देखभाल के लिए एक व्यक्ति रखा गया था. उनका अंतिम संस्कार नागपुर में किया जाएगा. 
हमारे पाठकों को याद होगा कि अभी थोड़े वक्त पहले ही हमने अपने ब्लॉग पर के. एस. सुदर्शन जी के बारे में एक पोस्ट भी लिखी थी। उसे इस लिंक पर देखा जा सकता है-

नरक का द्वार Door Of Hell

PICS: 40 सालों की रहस्यमयी आग, वैज्ञानिक भी न लगा सके हिसाब!
हो सकता है पहली बार में आपको यह किसी भी साइंस-फिक्शन के मिश्रण से बनी हॉलीवुड फिल्म का सीन लगे, लेकिन धरती पर मौजूद काराकम रेगिस्तान के सीने पर धधकते हुए शोले देख आप अचरज में पड़ जाएंगे।
पहली नजर में आप सोचेंगे कि यह एक ज्वालामुखी है, लेकिन पास से देखने पर ही माजरा समझ में आएगा। तुर्कमेनिस्तान के 70 फीसदी धरती को ढंकने वाले कारकम रेगिस्तान को डोर ऑफ हैल यानी नरक का द्वार कहा जाता है।
PICS: 40 सालों की रहस्यमयी आग, वैज्ञानिक भी न लगा सके हिसाब!
सोवियत भूवैज्ञानिकों ने 1971 में यहां प्राकृतिक गैस के स्रोत ढूंढने के लिए खुदाई शुरू की, लेकिन ड्रिलिंग करते हुए जमीन खिसक जाने खुदाई काम रोक दिया गया। जमीन में 70 मीटर चौड़ा गड्ढा हो गया और जहरीली गैस निकलना शुरू हो गई। 
http://www.bhaskar.com/article/INT-40-years-of-mysterious-fires-3782369.html?seq=3&PRVNX=

Friday, September 14, 2012

देखिए महेन्द्र श्रीवास्तव जी की 121 Comments वाली पोस्ट


ब्लॉगिस्तान की ताज़ा ख़बरों में से एक बड़ी ख़बर यह है कि
काफ़ी दिनों बाद किसी हिंदी ब्लॉग पोस्ट पर 121 टिप्पणियां हो पाई हैं।
यह सम्मान प्राप्त हुआ है हिंदी ब्लॉगर जनाब महेन्द्र श्रीवास्तव जी की पोस्ट को। शायद उनकी सारी पोस्ट्स में इसी पर सबसे ज़्यादा टिप्पणियां आई हैं। देखिए-

सम्मान समारोह : ब्लागिंग का ब्लैक डे !

जी चाहता है तोड़ दूं शीशा फरेब का,
अफसोस मगर अभी तो खामोश रहना है।

मित्रों मैं इस बात को नहीं समझ पाता हूं कि हम सही को सही कहने की हिम्मत रखते हैं, लेकिन गलत को गलत कहने में हमारी हिम्मत कहां चली जाती है ?


Tuesday, September 11, 2012

जिसकी लाठी उसी की भैंस-अंधा कानून

 दोस्तों ! हाल बुरा है मगर पत्नी के झूठे केसों में जरुर कोर्ट जाना है. दहेज मंगाने और गुजारा  भत्ता के केस आदि है. क्या एक स्वाभिमानी और...रमेश कुमार सिरफिरा : जिसकी लाठी उसी की भैंस-अंधा कानून:

प्यार एक अहसास है

वाह! क्या कहने है? किसी ने क्या खूब पक्तियां कही है कि-प्यार एक अहसास है,एक ऐसा एहसास जिसने लाखों लोगों के सपने संजोये, लाखों मुर्दा दि...सिरफिरा-आजाद पंछी: प्यार एक अहसास है:

ईश्वर गुरप्रीत की आत्मा को शांति प्रदान करे

सरदार बी.एस.पाबला के पुत्र गुरप्रीत सिंह का एक पुराना चित्र    मैंने विगत दिन शनिवार को फेसबुक के मित्र संजीव तिवारी ( https://www.f... सच्चा दोस्त: ईश्वर गुरप्रीत की आत्मा को शांति प्रदान करे:

कैसे पता लगाया जाए पत्नी वर्जिन है या नहीं

भारत में शादी से पहले सेक्स पर रूढ़ीवादी रवैया है, हालांकि शहरों और क़स्बों में इसके प्रति लचीला रूख़ सामने आ रहा है. एक भारतीय कंपनी न...शकुन्तला प्रेस ऑफ़ इंडिया प्रकाशन: कैसे पता लगाया जाए पत्नी वर्जिन है या नहीं

एक चमत्कार-हमसे एक कत्ल हो गया

परसों (शनिवार की रात) एक चमत्कार हो गया. शाम सात बजे से रात एक बजे तक शीश राम पार्क नामक हमारी कालोनी की बिजली कट गई. कारणों का कोई प...आपकी शायरी: एक चमत्कार-हमसे एक कत्ल हो गया:

अपनी गरीबी पर संतोष है

 धन के लिए जीवन नहीं किन्तु जीवन के लिए धन है. मुझे धन से अधिक मोह भी नहीं है. अगर मैं धन के लिए अपनी पत्रकारिता का प्रयोग करता. तब आज...कैमरा-तीसरी आँख: अपनी गरीबी पर संतोष है:

मोदी जी सैयदना साहब को आदर देते हुए

आज यह चर्चा गर्म है -
मोदी का बोहरा समाज के धर्मगुरु डॉ. सैयदना साहब को नमन...
सूरत। बोहरा समाज के धर्मगुरु डॉ. सैयदना साहब का मंगलवार को 101वां जन्मदिन है। रविवार को मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां धर्मगुरु से भेंट कर जन्मदिन की शुभकामनाएं दी।
साथ ही उनके स्वस्थ-दीर्घायु जीवन की कामना की। बोहरा समाज ने मंगलवार को यहां सामूहिक विवाह का आयोजन किया है। इसमें 101 जोड़े दांपत्य सूत्र में जुड़ेंगे।

Source : http://www.bhaskar.com/article/GUJ-modi-congrats-to-sayadna-sahab-2968087.html

एस. एम. मासूम साहब का Major Operation

ब्लॉगर साथियो ! पता चला है कि ‘अमन का पैग़ाम‘ देने वाले जनाब एस. एम. मासूम साहब के दिमाग़ में ब्लड की क्लॉटिंग हो गई थी। जिसकी वजह से उन्हें मेजर आप्रेशन से गुज़रना पड़ा। इस मौक़े पर हम सब उनकी सेहत के लिए मालिक से दुआ करते हैं और उम्मीद करते हैं कि वह जल्द ही सेहतयाब होकर फिर से अमन का पैग़ाम देंगे। उनके पैग़ाम की इस दुनिया को अभी बहुत ज़रूरत है।

Monday, September 10, 2012

हज़ारों साल जी लेते अगर दीदार ना होता

'मुशायरा' ब्लॉग पर यह शेर पथों को बहुत आकर्षित कर रहा है-
सुपुर्दे ख़ाक कर डाला तेरी आंखों की मस्ती ने
हज़ारों साल जी लेते अगर दीदार ना होता
http://mushayera.blogspot.in/2012/09/blog-post_9.html 












ग़ज़लगंगा.dg: चांद निकला भी नहीं था और सूरज ढल गया.

एक लम्हा जिंदगी का आते-आते टल गया.
चांद निकला भी नहीं था और सूरज ढल गया.

अब हवा चंदन की खुश्बू की तलब करती रहे
जिसको जलना था यहां पर सादगी से जल गया.

...........
Read more: http://www.gazalganga.in/2012/09/blog-post_7.html#ixzz261tqwl6U
ग़ज़लगंगा.dg: चांद निकला भी नहीं था और सूरज ढल गया.:

'via Blog this'

Sunday, September 9, 2012

खबरगंगा: खुश रहो न !

कई दिनों की बारिश के बाद बादल एकदम चुप से थे..न गरजना न बरसना ... ठंडी हवाएं जरुर रह-रह कर सहला जाती थी...धूली, निखरी प्रकृति की सुन्दरता अपने चरम पर थी ....मुझे पटना जाना था ...ट्रेन में खिड़की वाली सीट मिली (मेरा सौभाग्य )...हमारा सफ़र शुरू हुआ .... दूर तक पसरे हरे-भरे खेत, पेड़ो की  कतारें, बाग़-बगीचे दिखने लगे....मैं  बिलकुल 'खो' सी गयी थी ...कि एक जगह ट्रेन 'शंट' कर दी गयी...माहौल में ऊब और बेचैनी घुलने लगी.. बचने के लिए इधर-उधर देखना शुरू किया कि 'निगाहे' पटरी के पार झाड़ियों में कुछ खोजती औरत पर गयी.....इकहरा बदन ..सांवली रंगत...वह बेहद परेशान दिख रही थी ...पास ही बैठा उसका छोटा सा बच्चा रोये जा रहा था, पर वह, अपनी ही धुन में थी ...मुझे कुछ अजीब सा लगा इसलिए  उन्हें ध्यान से देखने लगी..अचानक उसके हाथ में एक सूखी टहनी नज़र आयी...अब उसके चेहरे पर राहत थी...धीरे-धीरे उसने कई लकड़ियों को इकट्ठा किया ...उसका गठ्ठर बनाया..बच्चे को उठाया और चली गयी....
खबरगंगा: खुश रहो न !:

'via Blog this'

बी.एस.पाबला जी के युवा पुत्र गुरप्रीत का आकस्मिक निधन

Bs Pabla

 फेसबुक जाना हुआ तो महफूज़ भाई से यह दुखद समाचार मिला -

बहुत ही दुखद सूचना है कि हरदिल अजीज़ (B. S. Pabla) बी.एस.पाबला जी के युवा पुत्र गुरप्रीत का आकस्मिक निधन आज प्रात: भिलाई में हो गया. गुरप्रीत की अंतिम यात्रा कल 12 बजे दोपहर बी.एस.पाबला जी के रूआंबांधा, भिलाई निवास से निकलेगी. हम इस नाजुक और असह्य दुख की घड़ी में पाबला जी के साथ हैं. ईश्वर गुरप्रीत की आत्मा को शांति प्रदान करे.


Saturday, September 8, 2012

जादू, जिन्न-भूत-प्रेत, रिश्ता न होना, कारोबार की बंदिश, पति और प्रेमी की बेवफ़ाई, औलाद का न होना, पैसे की तंगी और हर समस्या का समाधान Spiritual Solution

'रूहानी अमलियात' ब्लॉग  नया लेख :
बहुत लोगों ने इस नाम के ज़रिये ज़मीन में गड़ा हुआ धन भी तलाश किया है और कुछ लोगों ने इस नाम के ज़रिये सट्टे का नंबर भी पता लगाया है।
ग़लत काम करना भी गुनाह है और उसके लिए रब से दुआ करना और भी बड़ा जुर्म है। हमेशा जायज़ मक़सद के लिए ही दुआ करनी चाहिए। नाजायज़ काम के लिए दुआ करने वालों को नुक्सान उठाना पड़ा है।
ख़ैर तलब करने का मतलब ही यही है कि जायज़ काम में आगे बढ़ने के लिए दुआ करना।
कुछ लोग ऐसे होते हैं कि वे अक्सर बीमार पड़ते रहते हैं या लंबे अर्से से बीमार पड़े हुए हैं। मेडिकल जांच में कोई बीमारी नहीं आती या दवाएं खाने के बाद भी उनकी बीमारी नहीं जाती या किसी औरत के बच्चा नहीं होता या कारोबार नहीं चलता। ऐसे में कोई ज्योतिष या तांत्रिक कह देता है कि आप पर जादू किया गया है। आपको उपाय करना होगा। आपसे उपाय करने के नाम पर वह आपसे मोटी रक़म वुसूल करता है और बदले में वह दस रूपये की हांडी में पांच रूपये के नींबू-मिर्च वग़ैरह डालकर आपको दे देता है कि इसे कीकर के पेड़ में लटका देना। आपका उतार कर दिया गया है।
अगर इस तरह के उपाय करके हार चुके हों तो भी आप इस पाक नाम से फ़ायदा उठा सकते हैं।
सपने में आपको दिखाया जाएगा कि आपकी समस्या के पीछे क्या कारण है और उसका क्या हल है ?
ध्यान रहे कि वही आप देखेंगे जो कि आप देखना चाहेंगे। अगर आप सिर्फ़ समस्या का कारण देखना चाहेंगे तो सिर्फ़ कारण देख पाएंगे और अगर समस्या का कारण और हल दोनों देखना चाहेंगे तो आप दोनों देख पाएंगे।
दरअसल यह अपने अवचेतन मन में उतरकर रूहानी दुनिया में प्रवेश करने की प्रक्रिया है। इसलिए सावधान रहें। आप जितना अधिक तैयार होंगे, उतना ही ज़्यादा ग्रहण कर पाएंगे। 
देखें -

जादू, जिन्न-भूत-प्रेत, रिश्ता न होना, कारोबार की बंदिश, पति और प्रेमी की बेवफ़ाई, औलाद का न होना, पैसे की तंगी और हर समस्या का समाधान है ‘या ख़बीरू‘ Ya khabiru

Friday, September 7, 2012

समर्थक बिक रहे हैं इंटरनेट पर, 18 डॉलर में

प्रचार'

क्या आप इंटरनेट पर ऐसे मशहूर होना चाहते है ?

26 अगस्त ,2012 के " हिंदुस्तान " अख़बार में एक रिपोर्ट पड़ी जो मेरे लिए काफी चौकाने वाली थी,क्या थी वो रिपोर्ट ? आप भी पढ़े -

हिंदुस्तान की रिपोर्ट :- पैसे देकर फर्जी समर्थक ( Follwers ) खरीदिये  और हो जाइए मशहूर । जी हां,सोशल मीडिया के समर्थक बेचने का ये धंधा साइबर जगत में खूब फल - फूल रहा है । जो ट्विट्टर ,फेसबुक जैसी सोशल नेट्वर्किंग साइटों के लिए समर्थक बेच रही है । इन वेबसाइटों पर औसतन 18 डॉलर ( करीब 1000 रुपये ) में 1000 समर्थक आसानी से मिल जाते है । केवल समर्थक ही नहीं री - ट्वीट भी खरीदे जा सकते है । कई जानी  मानी हस्तियों ने 2500 डॉलर ( 1,38,000 ) में 2,50,000 समर्थक खरीदे है ।ओर गौर करने वाली बात ये है की हालीवुड में कुछ कलाकार अपने ट्विट्टर अकाउंट के समर्थक की संख्या के हिसाब से मेहनताना वसूलते है ।

अब यहाँ पर उन साइटों के नाम दिए जा रहे -

समर्थक बेचने वाली साइटे :-
www.buytwitterfollow.com
www.usocial.net
www.intertwitter.com

Thursday, September 6, 2012

आधुनिकता के साये में कामकाजी पति-पत्नी


'औरत की हकीक़त' ब्लॉग पर गीता झा की  नई पोस्ट 

'दृश्य और अदृश्य जगत' ब्लॉग पर 
गीता झा

आधुनिकता के साये में उबाऊ दाम्पत्य जीवन

दांपत्य या गृहस्थ  -जीवन एक महत्पूर्ण संस्था है जिसमें नर-नारी के निर्मल सामीप्य का समर्थन होता है. कुछ एक अपवाद , विवशता या अति उच्च - स्तरीय आदर्शवादिता के तथ्यों को छोड़ दिया जाये तो दाम्पत्य जीवन सुयोग- संयोग से विकसित एक स्वाभाविक और सरल विकास क्रम - व्यवस्था  है.

उपभोत्ता संस्कृति और आधुनिकता ने न केवल व्यक्ति और समाज को ही प्रभावित किया हैं वरन पारिवारिक संस्था की जडें भी हिला कर रख दी हैं.

आधुनिक जीवन शैली , अत्यधिक महत्वकांक्षा और अपना -अपना करियर बनाने का लोभ अपनाते दम्पति , आपस में ज्यादा रूचि नहीं रखते हैं और मजबूरीवश उनका सम्बन्ध केवल एक छत्त के नीचे रहना मात्र ही होता है.
...कामकाजी दम्पति अक्सर शीघ्र ही सेक्स से विरक्त हो जाते हैं.

Wednesday, September 5, 2012

बुरे लोग भी ब्लोगिंग में हैं , सावधान

मनोज पान्डे की अपील

लम्पट और नक्कालों से सावधान


सुनने में आ रहा है कि वटवृक्ष के ब्लोगर दशक विशेषांक की अपार सफलता को देखकर कुछ नक्कालों ने वटवृक्ष की सारी  सामग्रियों को हूँ ब हूँ छपवाकर बेचने की तैयारी  कर रहे हैं, इसलिए ब्लोगरों सावधान हो जाईये .....हिंदी ब्लॉग जगत में लम्पटों के बाद अब नक्कालों की घुसपैठ हो गयी है। पत्रिका के बारे में कुछ जानकारी दे रहा हूँ , ये सारी चीजें जिसमें हो वही खरीदें । किसी नक्काले के चंगुल में न फंस जाए । 



शिक्षक दिवस पर विशेष भेंट


शिक्षक दिवस पर विशेष भेंट Humanity’s Teacher: 21 Teaching Techniques of the Prophet by Muhammad Alshareef

Bismillah. Alhamdulillah. Was salatu was salamu ‘ala Rasoolillah. Amma ba’d.  In sha Allah we are going to be learning about the greatest teacher humanity has ever known – RasulAllah sal Allaahu alayhi wa sallam. Indeed, when we look through the Qur'an and the Sunnah, Allah subhaanahu wa ta ‘aala teaches us in many instances how to teach this Islam that we have learned. If someone looks deeply into the techniques that the Prophet...
Read More...

Tuesday, September 4, 2012

''भारतीय नारी '' ब्लॉग पर देखिये


''भारतीय नारी '' ब्लॉग पर  देखिये  -

शाबाश ऋचा :इसे कहते हैं ब्लॉग का सही इस्तेमाल

Sunday, September 2, 2012

जानिए बड़े ब्लॉगर्स के ब्लॉग पर बहती मुख्यधारा

'बड़ा ब्लॉगर  कैसे बनें' पर नई पोस्ट :
ज़्यादातर लोग अभी तक ब्लॉगिंग को समझ नहीं पाए हैं. वे बार बार इसकी तुलना अख़बार या प्रकाशित साहित्य से करते हैं और फिर 'उम्दा या घटिया' तय करने लगते हैं. हिंदी ब्लॉगिंग की मुख्यधारा  यही है.
मुख्यधारा में कुछ बातें और भी है जो एक सच्चे ब्लॉगर की चिंता का विषय हैं.
जानिए बड़े ब्लॉगर्स के ब्लॉग पर बहती मुख्यधारा

Saturday, September 1, 2012

संघ, दल और परिषद के लिए हमारे जज़्बात क्या होने चाहियें ? R.S.S.

'वेद क़ुरआन' पर देखिये एक अनोखा सच

नफ़ाबख्श बनिए और लोगों के दिलों पर राज कीजिए Spiritual Love


अपने परिवार के किसी सदस्य से शिकायतों के बावजूद भी हम उसे सरे आम रूसवा कभी नहीं करते लेकिन संघ, दल और परिषद के लोगों के लिए हमारे जज़्बात बदल जाते हैं।
इसकी वजह सिर्फ़ यही है कि हम उन्हें अपने भाई और बहन की नज़र से, अपने परिवार की नज़र से नहीं देखते। राजनीतिक स्वार्थ ने हमारी नज़र बदल दी है। हमें अपनी नज़र और अपने नज़रिए को दुरूस्त करने की ज़रूरत है।
हर वक्त हम यही सोचते रहते हैं कि बस हमारा भला हो जाए।
मुसलमान का काम यह नहीं है बल्कि यह सोचना है कि हमसे दूसरों का भला हो जाए।
देखिए अल्लाह क्या हुक्म दे रहा है-
‘और भलाई और बुराई बराबर नहीं हो सकती, तुम बुराई को उस तरह दूर करो जो सबसे बेहतर हो, उस सूरत में तुम देखोगे कि तुम्हारे और जिस व्यकित के बीच दुश्मनी थी, मानो वह गहरा दोस्त बन गया है; और यह चीज़ केवल उन लोगों को मिलती है जो सब्र करते हैं और जो बड़े भाग्यशाली हैं।‘ 
-क़ुरआन 41,34-35
अल्लाह हमें भाग्यशाली बनने का रास्ता दिखा रहा है और हम हैं कि उसके दिखाए रास्ते पर क़दम बढ़ाने के लिए तैयार ही नहीं हैं।

नफ़ाबख्श बनिए और लोगों के दिलों पर राज कीजिए।
आज ज़मीन पर क़ब्ज़े के लिए मारामारी मची हुई है लेकिन दिल वीरान पड़े हैं,
दुश्मन भी दिल रखता है और दिल हमेशा प्यार का प्यासा होता है।
कौन है जो इस प्यास को बुझाए ?
कौन है जो लोगों के दिलों पर हुकूमत करे ?
ज़माने भर के दिलो-नज़र किसी का इन्तेज़ार कर रहे हैं।
दिल जीतने के लिए क़दम बढ़ाईये।

गुड खाना और गुलगुलों से परहेज करना

जब भारत देश में हिंदी दिवस आता है तब एक दिन के लिए कलाकार (अभिनेता / अभिनेत्री), पत्रकार, कवि और साहित्यकार हिंदी का गुणगान करते नजर आते हैं और अपनी टिप्पणी/विचारों को ऐसे व्यक्त करते हैं. जैसे उन से ज्यादा बड़ा तो कोई हिंदी प्रेमी इस भारत वर्ष में कोई हैं ही नहीं. उसके बाद 364 दिन हिंदी को अपनी दुश्मन के समान समझते हैं. हिंदी के बड़े-बड़े कलाकार (अभिनेता / अभिनेत्री), पत्रकार, कवि और साहित्यकार आदि अपने नाम को सोशल वेबसाईट (फेसबुक,गूगल,ट्विट्टर आदि) पर (अपनी प्रोफाइल में) हिंदी में लिखना तक पसंद नहीं करते हैं, क्योंकि कहीं लोग उनको "अनपढ़ और गंवार" ना समझे.
काश ! हमारे देश के सभी बुद्धिजीवी भी हिंदी के प्रति पूरे ईमानदार होकर ज्यादा से ज्यादा हिंदी का प्रयोग करते हुए अपनी सभी बातें/विचार/रचना हिंदी में फेसबुक/टिवटर आदि पर डाले. तब कुछ हिंदी की स्थिति में सुधार संभव है. आज हिंदी की इतनी बुरी स्थिति हिंदी के चाहने वालों की वजह से है. कई तो कहते हैं कि हम हिंदी से अपनी माँ जितना प्यार करते है.मगर फेसबुक/टिवटर आदि पर अपने विचार/बातें/रचनाएँ अंग्रेजी या रोमन लिपि में डालते हैं यानि गुड खाते हैं और गुलगुलों से परहेज करते हैं. 

 मैंने कई अवसरों पर देखा है कि कई कलाकार (अभिनेता / अभिनेत्री), पत्रकार, कवि और साहित्यकार आदि कमाई तो हिंदी की खाते हैं और जब सोशल वेबसाइट पर अपना स्टेटस (गरिमा) दिखाने के लिए हिंदी से मुँह छुपाते नजर आते हैं. इसमें एक आध अपवाद छोड़ दें, क्योंकि कई लोगों फेसबुक आदि पर हिंदी लिखने से संबंधित जानकारी नहीं होती है. वरना.....अधिकांश के पास समय ही नहीं होता है, क्योंकि हिंदी लिखने के लिए थोड़ी ज्यादा मेहनत और समय की जरूरत है.
फेसबुक  प्रयोगकर्त्ताओं के लिए जानकारी:-
प्रश्न:-मुझे देवनागरी में नाम लिखने से सर्च करने में परेशानी होती है....इसलिए मैंने रोमन में लिखा हुआ है.....जो भी नाम देवनागरी में लिखे हैं, वो सर्च करने पर नहीं मिलते हैं.  
उत्तर:-अपनी प्रोफाइल में हिंदी में नाम कैसे लिखें:-आप सबसे पहले "खाता सेट्टिंग " में जाए. फिर आप "नेम एडिट" को क्लिक करें. वहाँ पर प्रथम,मिडिल व लास्ट नाम हिंदी में भरें और डिस्प्ले नाम के स्थान पर अपना पूरा नाम हिंदी में भरें. उसके बाद नीचे दिए विकल्प वाले स्थान में आप अपना नाम अंग्रेजी में भरने के बाद ओके कर दें. अब आपको कोई भी सर्च के माध्यम से तलाश भी कर सकता है और आपका नाम हर संदेश और टिप्पणी पर देवनागरी हिंदी में भी दिखाई देगा. अब बाकी आपकी मर्जी. हिंदी से प्यार करो या बहाना बनाओ.

पूरा लेख यहाँ  सिरफिरा-आजाद पंछी: गुड खाना और गुलगुलों से परहेज करना पर क्लिक करके पढ़ें.

‘ब्लॉग की ख़बरें‘

1- क्या है ब्लॉगर्स मीट वीकली ?
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_3391.html

2- किसने की हैं कौन करेगा उनसे मोहब्बत हम से ज़्यादा ?
http://mushayera.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

3- क्या है प्यार का आवश्यक उपकरण ?
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_18.html

4- एक दूसरे के अपराध क्षमा करो
http://biblesmysteries.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

5- इंसान का परिचय Introduction
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/07/introduction.html

6- दर्शनों की रचना से पूर्व मूल धर्म
http://kuranved.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

7- क्या भारतीय नारी भी नहीं भटक गई है ?
http://lucknowbloggersassociation.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

8- बेवफा छोड़ के जाता है चला जा
http://kunwarkusumesh.blogspot.com/2011/07/blog-post_11.html#comments

9- इस्लाम और पर्यावरण: एक झलक
http://www.hamarianjuman.com/2011/07/blog-post.html

10- दुआ की ताक़त The spiritual power
http://ruhani-amaliyat.blogspot.com/2011/01/spiritual-power.html

11- रमेश कुमार जैन ने ‘सिरफिरा‘ दिया
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

12- शकुन्तला प्रेस कार्यालय के बाहर लगा एक फ्लेक्स बोर्ड-4
http://shakuntalapress.blogspot.com/

13- वाह री, भारत सरकार, क्या खूब कहा
http://bhadas.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

14- वैश्विक हुआ फिरंगी संस्कृति का रोग ! (HIV Test ...)
http://sb.samwaad.com/2011/07/blog-post_16.html

15- अमीर मंदिर गरीब देश
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_18.html

16- मोबाइल : प्यार का आवश्यक उपकरण Mobile
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/mobile.html

17- आपकी तस्वीर कहीं पॉर्न वेबसाइट पे तो नहीं है?
http://bezaban.blogspot.com/2011/07/blog-post_18.html

18- खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम अब तक लागू नहीं
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

19- दुनिया में सबसे ज्यादा शादियाँ करने वाला कौन है?
इसका श्रेय भारत के ज़ियोना चाना को जाता है। मिजोरम के निवासी 64 वर्षीय जियोना चाना का परिवार 180 सदस्यों का है। उन्होंने 39 शादियाँ की हैं। इनके 94 बच्चे हैं, 14 पुत्रवधुएं और 33 नाती हैं। जियोना के पिता ने 50 शादियाँ की थीं। उसके घर में 100 से ज्यादा कमरे है और हर रोज भोजन में 30 मुर्गियाँ खर्च होती हैं।
http://gyaankosh.blogspot.com/2011/07/blog-post_14.html

20 - ब्लॉगर्स मीट अब ब्लॉग पर आयोजित हुआ करेगी और वह भी वीकली Bloggers' Meet Weekly
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/bloggers-meet-weekly.html

21- इस से पहले कि बेवफा हो जाएँ
http://www.sahityapremisangh.com/2011/07/blog-post_3678.html

22- इसलाम में आर्थिक व्यवस्था के मार्गदर्शक सिद्धांत
http://islamdharma.blogspot.com/2012/07/islamic-economics.html

23- मेरी बिटिया सदफ स्कूल क्लास प्रतिनिधि का चुनाव जीती
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_2208.html

24- कुरआन का चमत्कार

25- ब्रह्मा अब्राहम इब्राहीम एक हैं?

26- कमबख़्तो ! सीता माता को इल्ज़ाम न दो Greatness of Sita Mata

27- राम को इल्ज़ाम न दो Part 1

28- लक्ष्मण को इल्ज़ाम न दो

29- हरेक समस्या का अंत, तुरंत

30-
अपने पड़ोसी को तकलीफ़ न दो

साहित्य की ताज़ा जानकारी

1- युद्ध -लुईगी पिरांदेलो (मां-बेटे और बाप के ज़बर्दस्त तूफ़ानी जज़्बात का अनोखा बयान)
http://pyarimaan.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

2- रमेश कुमार जैन ने ‘सिरफिरा‘ दिया
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

3- आतंकवादी कौन और इल्ज़ाम किस पर ? Taliban
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/taliban.html

4- तनाव दूर करने की बजाय बढ़ाती है शराब
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

5- जानिए श्री कृष्ण जी के धर्म को अपने बुद्धि-विवेक से Krishna consciousness
http://vedquran.blogspot.com/2011/07/krishna-consciousness.html

6- समलैंगिकता और बलात्कार की घटनाएं क्यों अंजाम देते हैं जवान ? Rape
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/07/rape.html

7- क्या भारतीय नारी भी नहीं भटक गई है ?
http://lucknowbloggersassociation.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

8- ख़ून बहाना जायज़ ही नहीं है किसी मुसलमान के लिए No Voilence
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/07/no-voilence.html

9- धर्म को उसके लक्षणों से पहचान कर अपनाइये कल्याण के लिए
http://charchashalimanch.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

10- बाइबिल के रहस्य- क्षमा कीजिए शांति पाइए
http://biblesmysteries.blogspot.com/2011/03/blog-post.html

11- विश्व शांति और मानव एकता के लिए हज़रत अली की ज़िंदगी सचमुच एक आदर्श है
http://dharmiksahity.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

12- दर्शनों की रचना से पूर्व मूल धर्म
http://kuranved.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

13- ‘इस्लामी आतंकवाद‘ एक ग़लत शब्द है Terrorism or Peace, What is Islam
http://commentsgarden.blogspot.com/2011/07/terrorism-or-peace-what-is-islam.html

14- The real mission of Christ ईसा मसीह का मिशन क्या था ? और उसे किसने आकर पूरा किया ? - Anwer Jamal
http://kuranved.blogspot.com/2010/10/real-mission-of-christ-anwer-jamal.html

15- अल्लाह के विशेष गुण जो किसी सृष्टि में नहीं है.
http://quranse.blogspot.com/2011/06/blog-post_12.html

16- लघु नज्में ... ड़ा श्याम गुप्त...
http://mushayera.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

17- आपको कौन लिंक कर रहा है ?, जानने के तरीके यह हैं
http://techaggregator.blogspot.com/

18- आदम-मनु हैं एक, बाप अपना भी कह ले -रविकर फैजाबादी

19-मां बाप हैं अल्लाह की बख्शी हुई नेमत

20- मौत कहते हैं जिसे वो ज़िन्दगी का होश है Death is life

21- कल रात उसने सारे ख़तों को जला दिया -ग़ज़ल Gazal

22- मोम का सा मिज़ाज है मेरा / मुझ पे इल्ज़ाम है कि पत्थर हूँ -'Anwer'

23- दिल तो है लँगूर का

24- लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी - Allama Iqbal

25- विवाद -एक लघुकथा डा. अनवर जमाल की क़लम से Dispute (Short story)

26- शीशा हमें तो आपको पत्थर कहा गया (ग़ज़ल)