Thursday, April 7, 2011

... और एक हैं कुंवर कुसुमेश

 एक ब्लोगर भाई धीर गम्भीर और कविता गुरु कुंवर कुसुमेश जी हैं जिन्हें अगर में नहीं पढ़ पाता या जिन तक मेरी पहुंच नहीं होती तो शायद में खुद को इस ब्लोगिंग और अध्ययन की दुनिया में अधूरा मानता इनका रोज़ लिखा जाने वाला काव्य साहित्य सीधे आँखों के रास्ते से कुंवर कुसुमेश जाकर दिल में उतरता है और फिर दिमाग को सोचने पर जमीर को झकझोरने पर मजबूर कर देता है लेखन की जमीर को जगा देने वाली जो ताकत है वोह इन जनाब कुंवर कुसुमेश जी में है . 
आदरणीय कुंवर कुसुमेश जी लखनऊ उत्तर प्रदेश में जीवन बीमा निगम में जिला प्रबन्धक पद से रिटायर है और बीमा कम्पनी में क्लेम देते वक्त फाइनल करते वक्त कई लोगों का दर्द इन्होने नजदीक से देखा हे , कई लोगों के फर्जी क्लेम उठाने का झूंठ इन्होने पकड़ा हे कुशल प्रंबधक के रूप में इन्होने दफ्तर का काम अनुशासन से किया हे इसीलियें अनुशासन और अदब इनकी पहली शर्त हे अदब में साहित्य और तमीज़ दोनों चीजें शामिल हैं .
कुंवर कुसुमेश जी ऐसे पहले ब्लोगर हैं जिन्हें पढ़कर मुझे इनसे जलन हुई हे क्योंकि भाई में टिप्पणी फकीर हूँ और यह टिप्पणी सेठ  टिपण्णी  के धीरुभाई अम्बानी हैं इनकी हर रचना पर कमसेकम सत्तर लोगों की दाद होती हे और अधिकतम तो सो से भी ऊपर होती ही हे इनकी प्रमुख रचना फिर सलीबों पर मसीहा होगा जरा देखें जिंदगी का सच समझ में आ जाएगा इनके अनुभवों की वजह हे जो कुंवर कुसुमेश जी ने मोसम,युद्ध फोजी से लेकर जिंदगी के हर पहलु को अपनी रचना में समेटा हे और इनकी हर रचना पढ़नेवालों के दिल में इस कद्र उतरी है के उसके मुंह से बेसाखता वाह और हाथों की उँगलियों  से कम्प्यूटर पर टिप्पणी निकल पढ़ी हे इन जनाब ने अब तक तीन बहतरीन पुस्तकों का प्रकाशन भी कर दिया है इनकी रचनाएँ कम लेकिन गुणवत्ता वाली  है और  फालतू लफ्फाजी दे दूर और कुछ ना कुछ सोच को लेकर लिखी गयी होती हैं इन जनाब ने जुलाई २०१० से ब्लोगिंग की और आज १०९ लोग इनके फोलोवार्स हैं जबकि सेकड़ों लोग इनके टिप्पणीकार हैं ऐसे साहित्यकार की रचनाएँ पढ़ कर में तो भाई धन्य हो गया ..........
 अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

14 comments:

Kunwar Kusumesh said...

भाई अख्तर खान अकेला जी, आपने इस लेख के ज़रिये जिस एह्तरामो-इज्ज़त से मुझे नवाज़ा है उसके लिए मैं आपका शुक्र गुज़ार हूँ.मैंने हमेशा दूसरे के दर्द को अपना समझा है,उसे शिद्दत से महसूस किया है,बस इसी की झलक मेरी कविताओं/ग़ज़लों आदि के माध्यम से मुमकिन है आप तक और अन्य पाठकगण तक स्वतः पहुंच पा रही होगी,ऐसा मैं समझता हूँ. किसी के भी दिल से निकली हुई बात एक खुशबू की मानिंद होती है जिसे हर हाल में दूर तक जाना ही होता है, हालात और माहौल चाहे कुछ भी हो . टिप्पणियों का ज़िक्र करते हुए आपने लिखा कि आपको मुझसे जलन होती है,मुझे तो इसमें भी आपका प्यार ही नज़र आता है,जलन ज़रा सी भी नहीं.मुझे जीवन में अभी भी बहुत कुछ सीखना है,मुझे अपने दोस्तों और शुभचिंतकों की हमेशा ज़रुरत रहेगी.मुझे यक़ीन है कि मुझे उनका साथ हमेशा मिलता रहेगा.भाई अनवर जमाल जी का भी शुक्रिया कि उन्होंने मुझे इस लायक समझा और आप द्वारा, मुझसे सम्बंधित, लिखी पोस्ट अपने ब्लॉग पर लगाई.

DR. ANWER JAMAL said...

जनाब अख्तर खान साहब ! आपने एक ऐसे शख्स के बारे में जानकारी दी जो कि शायरी के फ़न में एक आला मक़ाम रखते हैं . इस बहाने कुसुमेश जी यहाँ तक आये तो सही . हम चाहेंगे कि जब वे आ ही गए हैं तो फिर वापस न जाने पायें बिना मेंबर बने . कुसुमेश जी अगर इस समाचार पत्र में योगदान के लिए जुड़ें तो हमें दिली खुशी होगी .
शुक्रिया आपका भी और कुसुमेश जे का भी .

आप संतुलन ढूंढ लीजिये आपको धर्म मिल जायेगा या फिर आप धर्म ढूंढ लीजिये आपको सभ्यता के संतुलन का सूत्र मिल जायेगा Balance your life and society

: केवल राम : said...

आदरणीय जी कुंवर कुसुमेश की रचनाओं का तो में भी कायल हूँ उन्हें पढना सकूँ देता है और उनकी प्रत्येक रचना दिल पर असर करती है जो कि इनकी रचनात्मकता का एक सकारात्मक पहलु है ...आपका आभार इनका परिचय इस रूप में करवाने के लिए ...!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

कुँवर सुसुमेश जी मेरे मित्रों में हैं!
इनका परिचय प्रकाशित करने के लिए आपका आभार!

वन्दना said...

अख्तर जी कुसुमेश जी के लेखन के तो हम भी कायल हैं और उनके बारे मे जानकारी आपने दी है वो पढकर और अच्छा लगा……………आपका आभार्।

Rajiv said...

अख्तर जी कुसुमेश जी के बारे में कुछ भी कहना हमारे वश कि बात नहीं है.काव्य जगत को इनके रूप में सच कहूँ तो एक दूसरा "कोहनूर" मिला है.ऐसा बहुत कम देखने में आता है.आपका यह प्रयास सराहनीय है.

रश्मि प्रभा... said...

aapki kalam ne kusumesh ji ko sahi samman diya hai

दीप said...

अख्तर जी कुसुमेश जी कि रचनाओं के तो हम जबरदस्त फैन हैं | और रही बात उनकी टिप्पड़ियों कि तो टिप्पड़ियां तो अलग हैं , इनकी रचनाएं बहुत पड़ी जाती हैं और लोग बहुत पसन्द करते हैं , यहाँ तक कि हमारे महाविद्यालय में मेरे जो सह्कर्मिन हैं वो सब बहुत पसन्द करतें हैं |

अरुण चन्द्र रॉय said...

कुवर साहब के ग़ज़ल और दोहे महज ग़ज़ल और दोहे नहीं होते बल्कि समाज के प्रति जिम्मेदार भी होते हैं. पर्यावरण पर उनके कई दोहे उत्कृष्ट हैं और मुझे अब भी याद हैं जैसे....

"अभी भी हो रहा पृथ्वी का दोहन,
पचासों ज़लज़ले झेले भयंकर."

पौधे अवशोषित करें,हर ज़हरीली गैस.
मानव करता फिर रहा,उनके दम पर ऐश.

चुपके चुपके काटता,जंगल सारी रात.
दिन भर जो करता मिला,हरियाली की बात.

अरे ! कुल्हाड़ी पेड़ पर,क्यों कर रही प्रहार.
ये भी मानव की तरह,जीने के हक़दार.

ग्रहण विषैली गैस कर,प्राणवायु का त्याग.
पेड़ प्रदर्शित कर रहे,जग के प्रति अनुराग.

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" said...

मैं खुदको कहुश्किस्मत समझता हूँ कि मुझे कुसुमेश जी को पढ़ने का मौका मिलते रहता है ... इनकी रचनाएँ बहुत सुन्दर और उच्च कोटि के होती हैं ...
केवल इतना ही नहीं इनका व्यक्तित्व भी बहुत सुन्दर है ...
इनको ढेरों शुभकामनायें !

ज्ञानचंद मर्मज्ञ said...

दर्द उठे जिस हृदय में,देख जगत का क्लेश !
गीत,ग़ज़ल दोहे लिखें, नाम 'कुंवर कुसुमेश' !

अदभुत रचनाकार हैं कुसुमेश जी !
आभार !

मनोज कुमार said...

कुंवर जी को मैं ब्लॉग जगत में ग़ज़लों का बादशाह कहता हूं। वे उन विरल रचनाकारों में से हैं जिनकी रचनाएं एक अलग राह अपनाने को प्रतिश्रुत दिखती हैं। अपने समय के ज्वलंत प्रश्नों को समेट बाज़ारवादी आहटों और मनुष्य विरोधी ताकतों के विरुद्ध उन्होंने कई रचनाएं लिखी हैं जो अपनी उदासीनताओं के साथ सोते संसार की नींद में खलल डालता है। उनकी रचनाएं सनसनी नहीं संवेदना में जीती हैं।

Dilbag Virk said...

kusumesh ji uchchkoti ke kvi hain ismen sndeh nhi
esi post likhne ke lie akela ji bhi bdhaai ke patr hain

संजय भास्कर said...

कुसुमेश जी के लेखन के तो हम भी कायल हैं

‘ब्लॉग की ख़बरें‘

1- क्या है ब्लॉगर्स मीट वीकली ?
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_3391.html

2- किसने की हैं कौन करेगा उनसे मोहब्बत हम से ज़्यादा ?
http://mushayera.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

3- क्या है प्यार का आवश्यक उपकरण ?
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_18.html

4- एक दूसरे के अपराध क्षमा करो
http://biblesmysteries.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

5- इंसान का परिचय Introduction
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/07/introduction.html

6- दर्शनों की रचना से पूर्व मूल धर्म
http://kuranved.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

7- क्या भारतीय नारी भी नहीं भटक गई है ?
http://lucknowbloggersassociation.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

8- बेवफा छोड़ के जाता है चला जा
http://kunwarkusumesh.blogspot.com/2011/07/blog-post_11.html#comments

9- इस्लाम और पर्यावरण: एक झलक
http://www.hamarianjuman.com/2011/07/blog-post.html

10- दुआ की ताक़त The spiritual power
http://ruhani-amaliyat.blogspot.com/2011/01/spiritual-power.html

11- रमेश कुमार जैन ने ‘सिरफिरा‘ दिया
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

12- शकुन्तला प्रेस कार्यालय के बाहर लगा एक फ्लेक्स बोर्ड-4
http://shakuntalapress.blogspot.com/

13- वाह री, भारत सरकार, क्या खूब कहा
http://bhadas.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

14- वैश्विक हुआ फिरंगी संस्कृति का रोग ! (HIV Test ...)
http://sb.samwaad.com/2011/07/blog-post_16.html

15- अमीर मंदिर गरीब देश
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_18.html

16- मोबाइल : प्यार का आवश्यक उपकरण Mobile
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/mobile.html

17- आपकी तस्वीर कहीं पॉर्न वेबसाइट पे तो नहीं है?
http://bezaban.blogspot.com/2011/07/blog-post_18.html

18- खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम अब तक लागू नहीं
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

19- दुनिया में सबसे ज्यादा शादियाँ करने वाला कौन है?
इसका श्रेय भारत के ज़ियोना चाना को जाता है। मिजोरम के निवासी 64 वर्षीय जियोना चाना का परिवार 180 सदस्यों का है। उन्होंने 39 शादियाँ की हैं। इनके 94 बच्चे हैं, 14 पुत्रवधुएं और 33 नाती हैं। जियोना के पिता ने 50 शादियाँ की थीं। उसके घर में 100 से ज्यादा कमरे है और हर रोज भोजन में 30 मुर्गियाँ खर्च होती हैं।
http://gyaankosh.blogspot.com/2011/07/blog-post_14.html

20 - ब्लॉगर्स मीट अब ब्लॉग पर आयोजित हुआ करेगी और वह भी वीकली Bloggers' Meet Weekly
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/bloggers-meet-weekly.html

21- इस से पहले कि बेवफा हो जाएँ
http://www.sahityapremisangh.com/2011/07/blog-post_3678.html

22- इसलाम में आर्थिक व्यवस्था के मार्गदर्शक सिद्धांत
http://islamdharma.blogspot.com/2012/07/islamic-economics.html

23- मेरी बिटिया सदफ स्कूल क्लास प्रतिनिधि का चुनाव जीती
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_2208.html

24- कुरआन का चमत्कार

25- ब्रह्मा अब्राहम इब्राहीम एक हैं?

26- कमबख़्तो ! सीता माता को इल्ज़ाम न दो Greatness of Sita Mata

27- राम को इल्ज़ाम न दो Part 1

28- लक्ष्मण को इल्ज़ाम न दो

29- हरेक समस्या का अंत, तुरंत

30-
अपने पड़ोसी को तकलीफ़ न दो

साहित्य की ताज़ा जानकारी

1- युद्ध -लुईगी पिरांदेलो (मां-बेटे और बाप के ज़बर्दस्त तूफ़ानी जज़्बात का अनोखा बयान)
http://pyarimaan.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

2- रमेश कुमार जैन ने ‘सिरफिरा‘ दिया
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

3- आतंकवादी कौन और इल्ज़ाम किस पर ? Taliban
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/taliban.html

4- तनाव दूर करने की बजाय बढ़ाती है शराब
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

5- जानिए श्री कृष्ण जी के धर्म को अपने बुद्धि-विवेक से Krishna consciousness
http://vedquran.blogspot.com/2011/07/krishna-consciousness.html

6- समलैंगिकता और बलात्कार की घटनाएं क्यों अंजाम देते हैं जवान ? Rape
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/07/rape.html

7- क्या भारतीय नारी भी नहीं भटक गई है ?
http://lucknowbloggersassociation.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

8- ख़ून बहाना जायज़ ही नहीं है किसी मुसलमान के लिए No Voilence
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/07/no-voilence.html

9- धर्म को उसके लक्षणों से पहचान कर अपनाइये कल्याण के लिए
http://charchashalimanch.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

10- बाइबिल के रहस्य- क्षमा कीजिए शांति पाइए
http://biblesmysteries.blogspot.com/2011/03/blog-post.html

11- विश्व शांति और मानव एकता के लिए हज़रत अली की ज़िंदगी सचमुच एक आदर्श है
http://dharmiksahity.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

12- दर्शनों की रचना से पूर्व मूल धर्म
http://kuranved.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

13- ‘इस्लामी आतंकवाद‘ एक ग़लत शब्द है Terrorism or Peace, What is Islam
http://commentsgarden.blogspot.com/2011/07/terrorism-or-peace-what-is-islam.html

14- The real mission of Christ ईसा मसीह का मिशन क्या था ? और उसे किसने आकर पूरा किया ? - Anwer Jamal
http://kuranved.blogspot.com/2010/10/real-mission-of-christ-anwer-jamal.html

15- अल्लाह के विशेष गुण जो किसी सृष्टि में नहीं है.
http://quranse.blogspot.com/2011/06/blog-post_12.html

16- लघु नज्में ... ड़ा श्याम गुप्त...
http://mushayera.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

17- आपको कौन लिंक कर रहा है ?, जानने के तरीके यह हैं
http://techaggregator.blogspot.com/

18- आदम-मनु हैं एक, बाप अपना भी कह ले -रविकर फैजाबादी

19-मां बाप हैं अल्लाह की बख्शी हुई नेमत

20- मौत कहते हैं जिसे वो ज़िन्दगी का होश है Death is life

21- कल रात उसने सारे ख़तों को जला दिया -ग़ज़ल Gazal

22- मोम का सा मिज़ाज है मेरा / मुझ पे इल्ज़ाम है कि पत्थर हूँ -'Anwer'

23- दिल तो है लँगूर का

24- लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी - Allama Iqbal

25- विवाद -एक लघुकथा डा. अनवर जमाल की क़लम से Dispute (Short story)

26- शीशा हमें तो आपको पत्थर कहा गया (ग़ज़ल)