Saturday, June 2, 2012

रूमी नाथ ने जाकिर हुसैन के साथ निकाह कर लिया Nikah


विधायक ने धर्म परिवर्तन कर प्रेमी से की शादी

असम की कांग्रेस विधायक रूमी नाथ के पति पिछले दस दिन से दावा कर रहे थे कि उनकी पत्नी का अपहरण कर लिया गया है, लेकिन अब पता चला है कि वह अपने प्रेमी के साथ फरार हैं। यही नहीं, रूमी नाथ के फेसबुक अकाउंट पर दी गई ताजा जानकारी के मुताबिक उन्होंने धर्म परिवर्तन कर उस प्रेमी के साथ शादी भी रचा ली है।
रूमी नाथ ने फेसबुक पर जो जानकारी दी है, उसके मुताबिक अब उनका नाम राबिया सुल्ताना हो गया है। उन्होंने सामाजिक कल्याण विभाग के एक मुलाजिम जाकिर हुसैन के साथ निकाह कर लिया है। हुसैन से उनकी मुलाकात भी इसी सोशल साइट के जरिए हुई थी।
 कांग्रेस के टिकट पर चुने जाने से पहले वह एक बार भाजपा की विधायक भी रह चुकी हैं।

4 comments:

SM said...

nice info

KHURSHID IMAM said...

Not nice info - this lady has left her small kid and ran away with a guy to marry. this is disgudting. what kind of "muslim" by was that who was romancing a married lady. islam is against all such absurd activities. a good muslim is one who abstain from illegal relationship. that muslim boy may be a muslim on the line of KHANS of hollywood!!!!

डॉ. जेन्नी शबनम said...

विवाह हुआ है तो निश्चित ही पहले पति से तलाक ले लिया होगा. इसमें गलत कुछ नहीं. गलत ये है धर्म परिवर्तन क्यों किया और नाम क्यों बदला?

DR. ANWER JAMAL said...

इस केस में लड़की हिन्दू समुदाय से है और लड़का मुस्लिम है . कहीं यह भी देखने में आता है लड़की मुसलमान है और लड़का हिन्दू है, जैसा कि आमिर खान के कार्यक्रम 'सत्यमेव जयते' में भी दिखाया गया है.
जब से लड़की के लिए शिक्षा और रोज़गार के दरवाज़े खोले गए हैं . तब से इस तरह के केस ज़्यादा होने लगे हैं.
असम की कांग्रेस विधायक रूमी नाथ के केस को लें तो हम यह बताना चाहेंगे कि तलाक़ के बाद औरत को ३ महीने (मासिक धर्म) की मुद्दत तक इंतज़ार करना होता है ताकि यह निश्चय हो जाए कि वह पूर्व पति से गर्भवती है या नहीं ताकि उस बच्चे का अपने बाप की संपत्ति में अधिकार सुनिश्चित हो सके.
यह इस्लामी तरीक़ा नहीं है कि इधर पूर्व पति को छोड़ा और उधर दूसरा पति कर लिया.
औरत को मनपसंद साथी के साथ जीने का हक़ है लेकिन वह जिस धर्म को अपना रही है उसके विधान का पालन न करने का अर्थ क्या है ?
इस से यही पता चलता है कि जैसे जैसे हम व्यक्तिगत आज़ादी की तरफ बढ़ रहे हैं वैसे वैसे सामाजिक और नैतिक ज़िम्मेदारी का अहसास कम होता जा रहा है .
जाकिर हुसैन साहब को भी अपनी धार्मिक और नैतिक ज़िम्मेदारी का अहसास होता तो वे इस तरह किसी का घर न तोड़ते.
इस्लाम मुसलमान मर्द को किसी औरत के साथ तन्हाई में मिलने से रोकता है ताकि इस तरह कि घटनाएं न हों.
पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद साहब स. ने तीन बार फ़रमाया खुदा कि क़सम वह आदमी ईमान नहीं रखता जिस का पड़ोसी (चाहे मुस्लिम हो या ग़ैर मुस्लिम) उसकी तकलीफ़ों से महफूज़ न हों.
(हदीस ग्रन्थ : बुख़ारी, मुस्लिम)


इस एक बात का ध्यान भी मुसलमान रख लें तो बहुत सी समस्याएं हल हो सकती हैं. इस्लाम का नाम लेना ही काफी नहीं है बल्कि उसके मुताबिक़ अमल करना भी ज़रूरी है. समाज में शांति तभी आएगी.

‘ब्लॉग की ख़बरें‘

1- क्या है ब्लॉगर्स मीट वीकली ?
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_3391.html

2- किसने की हैं कौन करेगा उनसे मोहब्बत हम से ज़्यादा ?
http://mushayera.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

3- क्या है प्यार का आवश्यक उपकरण ?
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_18.html

4- एक दूसरे के अपराध क्षमा करो
http://biblesmysteries.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

5- इंसान का परिचय Introduction
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/07/introduction.html

6- दर्शनों की रचना से पूर्व मूल धर्म
http://kuranved.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

7- क्या भारतीय नारी भी नहीं भटक गई है ?
http://lucknowbloggersassociation.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

8- बेवफा छोड़ के जाता है चला जा
http://kunwarkusumesh.blogspot.com/2011/07/blog-post_11.html#comments

9- इस्लाम और पर्यावरण: एक झलक
http://www.hamarianjuman.com/2011/07/blog-post.html

10- दुआ की ताक़त The spiritual power
http://ruhani-amaliyat.blogspot.com/2011/01/spiritual-power.html

11- रमेश कुमार जैन ने ‘सिरफिरा‘ दिया
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

12- शकुन्तला प्रेस कार्यालय के बाहर लगा एक फ्लेक्स बोर्ड-4
http://shakuntalapress.blogspot.com/

13- वाह री, भारत सरकार, क्या खूब कहा
http://bhadas.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

14- वैश्विक हुआ फिरंगी संस्कृति का रोग ! (HIV Test ...)
http://sb.samwaad.com/2011/07/blog-post_16.html

15- अमीर मंदिर गरीब देश
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_18.html

16- मोबाइल : प्यार का आवश्यक उपकरण Mobile
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/mobile.html

17- आपकी तस्वीर कहीं पॉर्न वेबसाइट पे तो नहीं है?
http://bezaban.blogspot.com/2011/07/blog-post_18.html

18- खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम अब तक लागू नहीं
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

19- दुनिया में सबसे ज्यादा शादियाँ करने वाला कौन है?
इसका श्रेय भारत के ज़ियोना चाना को जाता है। मिजोरम के निवासी 64 वर्षीय जियोना चाना का परिवार 180 सदस्यों का है। उन्होंने 39 शादियाँ की हैं। इनके 94 बच्चे हैं, 14 पुत्रवधुएं और 33 नाती हैं। जियोना के पिता ने 50 शादियाँ की थीं। उसके घर में 100 से ज्यादा कमरे है और हर रोज भोजन में 30 मुर्गियाँ खर्च होती हैं।
http://gyaankosh.blogspot.com/2011/07/blog-post_14.html

20 - ब्लॉगर्स मीट अब ब्लॉग पर आयोजित हुआ करेगी और वह भी वीकली Bloggers' Meet Weekly
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/bloggers-meet-weekly.html

21- इस से पहले कि बेवफा हो जाएँ
http://www.sahityapremisangh.com/2011/07/blog-post_3678.html

22- इसलाम में आर्थिक व्यवस्था के मार्गदर्शक सिद्धांत
http://islamdharma.blogspot.com/2012/07/islamic-economics.html

23- मेरी बिटिया सदफ स्कूल क्लास प्रतिनिधि का चुनाव जीती
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_2208.html

24- कुरआन का चमत्कार

25- ब्रह्मा अब्राहम इब्राहीम एक हैं?

26- कमबख़्तो ! सीता माता को इल्ज़ाम न दो Greatness of Sita Mata

27- राम को इल्ज़ाम न दो Part 1

28- लक्ष्मण को इल्ज़ाम न दो

29- हरेक समस्या का अंत, तुरंत

30-
अपने पड़ोसी को तकलीफ़ न दो

साहित्य की ताज़ा जानकारी

1- युद्ध -लुईगी पिरांदेलो (मां-बेटे और बाप के ज़बर्दस्त तूफ़ानी जज़्बात का अनोखा बयान)
http://pyarimaan.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

2- रमेश कुमार जैन ने ‘सिरफिरा‘ दिया
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

3- आतंकवादी कौन और इल्ज़ाम किस पर ? Taliban
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/taliban.html

4- तनाव दूर करने की बजाय बढ़ाती है शराब
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

5- जानिए श्री कृष्ण जी के धर्म को अपने बुद्धि-विवेक से Krishna consciousness
http://vedquran.blogspot.com/2011/07/krishna-consciousness.html

6- समलैंगिकता और बलात्कार की घटनाएं क्यों अंजाम देते हैं जवान ? Rape
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/07/rape.html

7- क्या भारतीय नारी भी नहीं भटक गई है ?
http://lucknowbloggersassociation.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

8- ख़ून बहाना जायज़ ही नहीं है किसी मुसलमान के लिए No Voilence
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/07/no-voilence.html

9- धर्म को उसके लक्षणों से पहचान कर अपनाइये कल्याण के लिए
http://charchashalimanch.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

10- बाइबिल के रहस्य- क्षमा कीजिए शांति पाइए
http://biblesmysteries.blogspot.com/2011/03/blog-post.html

11- विश्व शांति और मानव एकता के लिए हज़रत अली की ज़िंदगी सचमुच एक आदर्श है
http://dharmiksahity.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

12- दर्शनों की रचना से पूर्व मूल धर्म
http://kuranved.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

13- ‘इस्लामी आतंकवाद‘ एक ग़लत शब्द है Terrorism or Peace, What is Islam
http://commentsgarden.blogspot.com/2011/07/terrorism-or-peace-what-is-islam.html

14- The real mission of Christ ईसा मसीह का मिशन क्या था ? और उसे किसने आकर पूरा किया ? - Anwer Jamal
http://kuranved.blogspot.com/2010/10/real-mission-of-christ-anwer-jamal.html

15- अल्लाह के विशेष गुण जो किसी सृष्टि में नहीं है.
http://quranse.blogspot.com/2011/06/blog-post_12.html

16- लघु नज्में ... ड़ा श्याम गुप्त...
http://mushayera.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

17- आपको कौन लिंक कर रहा है ?, जानने के तरीके यह हैं
http://techaggregator.blogspot.com/

18- आदम-मनु हैं एक, बाप अपना भी कह ले -रविकर फैजाबादी

19-मां बाप हैं अल्लाह की बख्शी हुई नेमत

20- मौत कहते हैं जिसे वो ज़िन्दगी का होश है Death is life

21- कल रात उसने सारे ख़तों को जला दिया -ग़ज़ल Gazal

22- मोम का सा मिज़ाज है मेरा / मुझ पे इल्ज़ाम है कि पत्थर हूँ -'Anwer'

23- दिल तो है लँगूर का

24- लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी - Allama Iqbal

25- विवाद -एक लघुकथा डा. अनवर जमाल की क़लम से Dispute (Short story)

26- शीशा हमें तो आपको पत्थर कहा गया (ग़ज़ल)