Friday, March 16, 2012

सबसे बढ़िया है शाकाहारी होना हालाँकि एक डॉक्टर के रूप में मैं ऐसा नहीं कह सकता -Dr. T. S. Daral

यह एक अच्छी और ईमानदार टिप्पणी है.

डॉ टी एस दराल ने कहा…
सबसे बढ़िया है शाकाहारी होना । हालाँकि एक डॉक्टर के रूप में मैं ऐसा नहीं कह सकता । see  : http://veerubhai1947.blogspot.in/2012/03/blog-post_14.html

14 comments:

रविकर said...

Jee

निरामिष said...

वह लेख जिस पर आदरणीय दराल साहब की यह टिप्प्पणी है वह आलेख एक शोध प्रबंध पर आधारित पूर्णरूप से वैज्ञानिक अनुसंधान और तथ्यों का निष्कर्ष है।
चिकित्सा विज्ञान स्वयं वैज्ञानिक अनुसंधानों और तात्विक निष्कर्षों का ही परिणाम होता है।

डॉक्टर दराल का आशय किसी भी प्रचार से बचना है।

निरामिष said...

वह लेख जिस पर आदरणीय दराल साहब की यह टिप्प्पणी है वह आलेख एक शोध प्रबंध पर आधारित पूर्णरूप से वैज्ञानिक अनुसंधान और तथ्यों का निष्कर्ष है।
चिकित्सा विज्ञान स्वयं वैज्ञानिक अनुसंधानों और तात्विक निष्कर्षों का ही परिणाम होता है।

डॉक्टर दराल का आशय किसी भी प्रचार से बचना है।

डा. श्याम गुप्त said...

----वैग्यानिक तथ्य व शोध, अनुसंधान भी कभी पूर्णत: सही नहीं होते...इसीलिये वे कुछ समय बाद प्राय:उलट भी जाते हैं.....जन जन में प्रचलित दीर्घावधि ग्यान व अनुभव प्राय सही होता है....
---इस टिप्पणी ( डा दराल साहब की ) से पोस्ट बनाने वाले प्रसन्न न हों...डा दराल का यह व्यक्तिगत मत है...कोई प्रामाणिक चिकित्सकीय मत नही....
----- मैं तो यह बात डाक्टर के रूप में भी कह सकता हूं ...इसमे प्रचार जैसी कोई बात नहीं है...

Zafar said...

Dr. Daral is correct. To be non- vegeterial is quiet natural and harmless, even spritually. Practically we see that non-vegeterials have more tender heart, are more caring and helping.

Zafar.

डॉ टी एस दराल said...

आज सुबह नेट खोला तो पाया , इस विषय पर गंभीर और गहन चर्चा चल रही है . हमारे कमेन्ट पर भी काफी चर्चा हुई है .
पहले तो मैं यह बताना चाहूँगा की मैं पूर्णतया शाकाहारी हूँ . लेकिन मेरा मानना है की मांसाहारी या शाकाहारी होना पूर्ण रूप से एक व्यक्ति विशेष की रुचि पर निर्भर करता है . हालाँकि इसमें परिवार , धर्म , प्रान्त और देश की रीति रिवाजें और धार्मिक सोच भी रोल प्ले करती है . किताबें पढ़कर या रिसर्च पेपर पढ़कर कोई यह निर्णय नहीं लेता की उसे क्या खाना है .
जहाँ तक बात है शोध और शोध पत्रों की -सब वैसा नहीं होता , जैसा दिखता है . अनुसंधान के परिणाम रोज बदलते हैं . उन पर आँख बांध कर विश्वास नहीं किया जा सकता . बहुत से पेपर्स विभिन्न कारणों से प्रभावित होते हैं . एक रिसर्च से कुछ पता चलता है , दूसरी रिसर्च बिलकुल उल्टा रिजल्ट निकाल कर दे देती है --किसकी मानेंगे आप .
अंतत: अपनी सोच पर ही निर्भर रहना चाहिए .

डॉ टी एस दराल said...

चिकित्सक की दृष्टि से देखें तो विभिन्न मांसाहार में सभी पौषक तत्त्व भरपूर मात्रा में होते हैं . बल्कि कुछ ऐसे भी तत्त्व होते हैं जो या तो शाकाहार में नहीं होते या कम होते हैं .
रोगों की उत्पत्ति अक्सर किसी एक फैक्टर पर निर्भर नहीं होती . हेल्थ एक मल्टीफेक्टोरल उत्पाद होता है . इसलिए यह नहीं कहा जा सकता की किसी एक के होने या न होने से केंसर या अन्य घातक रोग होना अनिवार्य है . ( कुछ विशेष स्थितियों को छोड़कर ) .
विश्व में अधिकांश लोग मांसाहार पर निर्भर हैं . फ़ूड चेन को भी देखें तो विश्व की ७ बिलियन आबादी को शाकाहार पर नहीं पाला जा सकता . आज यदि मांसाहार को पूर्ण रूप से निषिद्ध कर दिया जाए , तो कुछ ही दिनों में सिविल वार हो जायेगा, खादान्न की कमी से .

डा. श्याम गुप्त said...

non-vegeterials have more tender heart, are more caring and helping.

---zafar --saahab ne yah baat kis shodh patr ya granth men padhee dekhee...

डा. श्याम गुप्त said...

---- मुझे नहीं लगता मांसाहार में कुछ एसे तत्व होते हैं जो शाकाहार में नहीं होते .....निश्चय ही मांस भी मूलतः शाकाहार से ही बनता है... हां हानिकारक यौगिक निश्चय ही मांस में हो सकते हैं।

Zafar said...

Respected Dr. Shyam Gupt Ji,
I have quoted it from my personal experience. I have a large number of friends and I can quote for some of them to be the best souls in this world and by a good chance all of them are non-veg. That's all.
My apologies for all if my comment has hurt any one.
Best Regards
Zafar.

Zafar said...

Comments of Dr. T.S. Daral is the best and most logical.
विश्व में अधिकांश लोग मांसाहार पर निर्भर हैं . फ़ूड चेन को भी देखें तो विश्व की ७ बिलियन आबादी को शाकाहार पर नहीं पाला जा सकता . आज यदि मांसाहार को पूर्ण रूप से निषिद्ध कर दिया जाए , तो कुछ ही दिनों में सिविल वार हो जायेगा, खादान्न की कमी से .

डॉ टी एस दराल said...

विटामिन बी १२ सबसे ज्यादा मीट और फिश में पाया जाता है . जबकि शाकाहार में बस दूध में थोड़ा सा होता है . इसलिए शुद्ध शाकाहारी लोगों को इसकी कमी होने का खतरा रहता है . इसे पूरा करने के लिए फोर्टीफाइड फूड्स का सहारा लेना पड़ता है जैसे ब्रेड . इसी तरह विटामिन ऐ सबसे ज्यादा कॉड लीवर ऑयल में मिलता है . शाकाहार में पीले फल और सब्जियों में मिलता है लेकिन कम .
अंतत : आहार का संतुलित होना ज्यादा ज़रूरी है जिसमे सभी तत्त्व उचित मात्रा में होने चाहिए.

सुज्ञ said...

विटामिन बी १२ एक बैकटेरिया जनित तत्व है। यह रक्त बनाने में सहायक है, जो बहुत ही थोडी मात्रा में शरीर को चाहिए। लगभग 3 माईक्रोग्राम से भी कम। यह दूध और ब्रेड के साथ साथ सभी खमीर उठा कर बनाए शाकाहारी पदार्थों से पाया जा सकता है। शरीर विटामिन बी १२ को संचित रखता है। उलट अगर भारी मात्रा में मांसादि पदार्थो से लिया जाय तो शरीर संचय करना बंद कर देता है ऐसी दशा में फिर हमेशा मांसादि या बाहरी सप्लीमेंट के अलावा कोई चारा नहीं रहता। इसलिए पर्याप्त मात्रा ही योग्य है जो शाकाहारी पदार्थों से भंडारण में रहती है।
इसी प्रकार पीले फलों और हरी सब्जियों से प्राप्त विटामिन ए भी आवश्यक मात्रा में लिया जाना चाहिए।

आहार में पोषण्मूल्यों का संतुलन नितांत ही आवश्यक है पर वह मांसाहार से ही संतुलित हो कोई आवश्यक नहीं है। आहार संतुलन की दृष्टि से मांसाहार में शाकाहार का संयोजन 80% जरूरी है, जबकि शाकाहार में मांसाहार की आवश्यकता 0% भी नहीं।

निरामिष said...

निरामिष: रक्त निर्माण के लिये आवश्यक है विटामिन बी12

‘ब्लॉग की ख़बरें‘

1- क्या है ब्लॉगर्स मीट वीकली ?
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_3391.html

2- किसने की हैं कौन करेगा उनसे मोहब्बत हम से ज़्यादा ?
http://mushayera.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

3- क्या है प्यार का आवश्यक उपकरण ?
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_18.html

4- एक दूसरे के अपराध क्षमा करो
http://biblesmysteries.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

5- इंसान का परिचय Introduction
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/07/introduction.html

6- दर्शनों की रचना से पूर्व मूल धर्म
http://kuranved.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

7- क्या भारतीय नारी भी नहीं भटक गई है ?
http://lucknowbloggersassociation.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

8- बेवफा छोड़ के जाता है चला जा
http://kunwarkusumesh.blogspot.com/2011/07/blog-post_11.html#comments

9- इस्लाम और पर्यावरण: एक झलक
http://www.hamarianjuman.com/2011/07/blog-post.html

10- दुआ की ताक़त The spiritual power
http://ruhani-amaliyat.blogspot.com/2011/01/spiritual-power.html

11- रमेश कुमार जैन ने ‘सिरफिरा‘ दिया
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

12- शकुन्तला प्रेस कार्यालय के बाहर लगा एक फ्लेक्स बोर्ड-4
http://shakuntalapress.blogspot.com/

13- वाह री, भारत सरकार, क्या खूब कहा
http://bhadas.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

14- वैश्विक हुआ फिरंगी संस्कृति का रोग ! (HIV Test ...)
http://sb.samwaad.com/2011/07/blog-post_16.html

15- अमीर मंदिर गरीब देश
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_18.html

16- मोबाइल : प्यार का आवश्यक उपकरण Mobile
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/mobile.html

17- आपकी तस्वीर कहीं पॉर्न वेबसाइट पे तो नहीं है?
http://bezaban.blogspot.com/2011/07/blog-post_18.html

18- खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम अब तक लागू नहीं
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

19- दुनिया में सबसे ज्यादा शादियाँ करने वाला कौन है?
इसका श्रेय भारत के ज़ियोना चाना को जाता है। मिजोरम के निवासी 64 वर्षीय जियोना चाना का परिवार 180 सदस्यों का है। उन्होंने 39 शादियाँ की हैं। इनके 94 बच्चे हैं, 14 पुत्रवधुएं और 33 नाती हैं। जियोना के पिता ने 50 शादियाँ की थीं। उसके घर में 100 से ज्यादा कमरे है और हर रोज भोजन में 30 मुर्गियाँ खर्च होती हैं।
http://gyaankosh.blogspot.com/2011/07/blog-post_14.html

20 - ब्लॉगर्स मीट अब ब्लॉग पर आयोजित हुआ करेगी और वह भी वीकली Bloggers' Meet Weekly
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/bloggers-meet-weekly.html

21- इस से पहले कि बेवफा हो जाएँ
http://www.sahityapremisangh.com/2011/07/blog-post_3678.html

22- इसलाम में आर्थिक व्यवस्था के मार्गदर्शक सिद्धांत
http://islamdharma.blogspot.com/2012/07/islamic-economics.html

23- मेरी बिटिया सदफ स्कूल क्लास प्रतिनिधि का चुनाव जीती
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_2208.html

24- कुरआन का चमत्कार

25- ब्रह्मा अब्राहम इब्राहीम एक हैं?

26- कमबख़्तो ! सीता माता को इल्ज़ाम न दो Greatness of Sita Mata

27- राम को इल्ज़ाम न दो Part 1

28- लक्ष्मण को इल्ज़ाम न दो

29- हरेक समस्या का अंत, तुरंत

30-
अपने पड़ोसी को तकलीफ़ न दो

साहित्य की ताज़ा जानकारी

1- युद्ध -लुईगी पिरांदेलो (मां-बेटे और बाप के ज़बर्दस्त तूफ़ानी जज़्बात का अनोखा बयान)
http://pyarimaan.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

2- रमेश कुमार जैन ने ‘सिरफिरा‘ दिया
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

3- आतंकवादी कौन और इल्ज़ाम किस पर ? Taliban
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/taliban.html

4- तनाव दूर करने की बजाय बढ़ाती है शराब
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

5- जानिए श्री कृष्ण जी के धर्म को अपने बुद्धि-विवेक से Krishna consciousness
http://vedquran.blogspot.com/2011/07/krishna-consciousness.html

6- समलैंगिकता और बलात्कार की घटनाएं क्यों अंजाम देते हैं जवान ? Rape
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/07/rape.html

7- क्या भारतीय नारी भी नहीं भटक गई है ?
http://lucknowbloggersassociation.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

8- ख़ून बहाना जायज़ ही नहीं है किसी मुसलमान के लिए No Voilence
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/07/no-voilence.html

9- धर्म को उसके लक्षणों से पहचान कर अपनाइये कल्याण के लिए
http://charchashalimanch.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

10- बाइबिल के रहस्य- क्षमा कीजिए शांति पाइए
http://biblesmysteries.blogspot.com/2011/03/blog-post.html

11- विश्व शांति और मानव एकता के लिए हज़रत अली की ज़िंदगी सचमुच एक आदर्श है
http://dharmiksahity.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

12- दर्शनों की रचना से पूर्व मूल धर्म
http://kuranved.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

13- ‘इस्लामी आतंकवाद‘ एक ग़लत शब्द है Terrorism or Peace, What is Islam
http://commentsgarden.blogspot.com/2011/07/terrorism-or-peace-what-is-islam.html

14- The real mission of Christ ईसा मसीह का मिशन क्या था ? और उसे किसने आकर पूरा किया ? - Anwer Jamal
http://kuranved.blogspot.com/2010/10/real-mission-of-christ-anwer-jamal.html

15- अल्लाह के विशेष गुण जो किसी सृष्टि में नहीं है.
http://quranse.blogspot.com/2011/06/blog-post_12.html

16- लघु नज्में ... ड़ा श्याम गुप्त...
http://mushayera.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

17- आपको कौन लिंक कर रहा है ?, जानने के तरीके यह हैं
http://techaggregator.blogspot.com/

18- आदम-मनु हैं एक, बाप अपना भी कह ले -रविकर फैजाबादी

19-मां बाप हैं अल्लाह की बख्शी हुई नेमत

20- मौत कहते हैं जिसे वो ज़िन्दगी का होश है Death is life

21- कल रात उसने सारे ख़तों को जला दिया -ग़ज़ल Gazal

22- मोम का सा मिज़ाज है मेरा / मुझ पे इल्ज़ाम है कि पत्थर हूँ -'Anwer'

23- दिल तो है लँगूर का

24- लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी - Allama Iqbal

25- विवाद -एक लघुकथा डा. अनवर जमाल की क़लम से Dispute (Short story)

26- शीशा हमें तो आपको पत्थर कहा गया (ग़ज़ल)