Wednesday, April 25, 2012

Zealzen Blog एक सस्पेंस , एक पहेली

थाईलैंडवासी डा. दिव्या ने अपनी पसंद की पार्टी के हक़ में वोटर्स के ध्रुवीकरण के लिए आग उगली। नतीजा यह हुआ कि उनके ब्लॉग पर आग देखकर टिप्पणीकार भाग खड़े हुए।
उनकी ताज़ा पोस्ट पर एक और महिला ब्लॉगर ने उन्हें आड़े हाथों ले लिया और ब्लॉग जगत ने भी उनका समर्थन कर दिया। डा. दिव्या को दिन में तारे और रात में सूरज दोनों दिखाई देने लगे तो उन्होंने तुरंत अपनी नीति बदली।
ताज़ा नीति के अनुसार उन्होंने सामाजिक लेख लिखने शुरू कर दिए हैं। इससे टिप्प्पणीकार वापस जुटने में आसानी होगी और जब वे जुट जाएंगे तो मुसलमानों के त्यौहार और चुनाव के समय पर वह फिर से आग उगलने लगेंगी। टिप्पणीकार भाग जाएंगे तो उन्हें सामाजिक लेख लिखकर या कविता आदि समर्पित करके फिर से मना लिया जाएगा।
ब्लॉगर्स भी बदलते रंग और मिज़ाज से उनके मन में चल रही उथल पुथल को ताड़ रहे हैं।
3 टिप्पणीकार वापस आ भी चुके हैं।
देखते हैं फिर से 50 का आंकड़ा कितने दिन में वापस आता है ?
एक सस्पेंस , एक पहेली !

8 comments:

zeashan zaidi said...

नीति वही है, चेहरा बदल गया है. सामाजिक कुरीतियों के नाम पर वही बातें उठाई जा रही हैं जो मुसलमानों में ज्यादा मानी जाती हैं. जैसे की First Cousin Marriage.

शिखा कौशिक said...

IS BLOG PAR LIKHI JAA RAHI POST KISI MAHILA DWARA HI LIKHI JA RAHI HAIN -IS PAR MUJHE SANDEH HAI .HO SAKTA HAI KOI CHADAM NAAM SE IS PAR LIKH RAHA HO .POST ME JO KATTARTA HAI VO MAHILAON ME MUSHKIL SE HI HOTI HAI .

DR. ANWER JAMAL said...

@ शिखा जी ! आपकी तरह हकीम यूनुस ख़ान साहब ने भी हमारी एक पोस्ट पर इसी तरह का शक ज़ाहिर करते हुए ब्लॉगर अमरेन्द्र नाथ त्रिपाठी से सवाल किया था। दिव्या जी और अमरेन्द्र जी के बीच प्रेम संबंध टाइप कुछ था। बाद में दिव्या जी ने उन्हें भाई भाई कहना शुरू किया जिसके लिए अमरेन्द्र जी तैयार नहीं हुए सो बड़ा विवाद हुआ। काफ़ी ब्लॉगर्स ने बीच बचाव कराया लेकिन दिव्या जी अपने अंदाज़ में उनकी ख़बर लेती रहीं और इसी रौ में बहकर एक दिन वह हमें कुछ कह बैठीं।
हमने एक पोस्ट तैयार की-
‘देशभक्ति का दावा और उसकी हक़ीक़त‘
इस पोस्ट पर अमरेन्द्र नाथ त्रिपाठी जी ने वह सब बताया जो कि दिव्या जी ने पर्सनल लैटर्स में उन्हें कहा था या फ़ोन पर उनसे कहा था।
अमरेन्द्र जी ने बताया कि दिव्या नाम की ब्लॉगर सचमुच में है और वह लड़की ही है और थाईलैंड में रहती है। दिव्या जी के मकान और उनके परिवार वग़ैरह के बारे में भी अमरेन्द्र जी जानते हैं।
दिव्या जी में ऊर्जा है। राजनेता जनता को बांटकर हमारा ख़ून पीते हैं। राजनीति के चक्कर हमें आपस में सिर फुटौव्वल नहीं करनी चाहिए। मिलजुल कर सभी एक देश की उन्नति के लिए काम करें ताकि समाज में शांति क़ायम हो। ग़लतियां सबसे होती हैं। उन्हें दोहराते चले जाना ठीक नहीं है।
दिव्या जी अच्छा लिखें, यही हमारी कामना है।

दिवस said...

आ गया न फिर वही दिव्या पुराण लेकर। शर्म नहीं आती किसी स्त्री का इस प्रकार अपमान करते? दो टेक की तेरी औकात नहीं और चला है है दूसरों के चरित्र पर ऊँगली उठाने? क्या यही सिखाता है तेरा दीन तुझे?

दिवस said...

डर गया क्या बे?

दिवस said...

अबे दम है तो कमेन्ट डिलीट क्यों कर रहा है डरपोक?

DR. ANWER JAMAL said...

दिवस के नाम से दिव्या जी ही लिखती हैं
@ हमारे ब्लॉग के आदरणीय पाठकों ! डा. दिव्या जी ने अपनी पोस्ट पर कमेंट्स का अम्बार लगाने के लिए कुछ नक़ली प्रोफाईल्स भी बना रखे हैं.

दिवस के नाम से भी दिव्या जी ही लिखती हैं.
दिव्या जी और दिवस जी के विषय और भाषा-शैली एक समान हैं .
यहाँ एक पोस्ट का लिंक दिया जा रहा है. इस पोस्ट में आप दिव्या जी की भाषा और उनकी सोच दोनों ही देख सकते हैं-
डा. दिव्या श्रीवास्तव का परिचय हमें कैसे मिला ? Dr. Divya Shriwastawa's Introduction

हम दिव्या जी के कई नक़ली प्रोफाइल्स जानते हैं. दिवस जी की निशानदेही करने के बाद अब हिंदी ब्लॉग जगत भी यह जान जाएगा कि देश की एकता और शांति को नष्ट करने के लिए दिव्या जी कितनी ज़्यादा मेहनत कर रही हैं ?

उनके दिल में कितनी नफरत भरी है . ब्लॉगिंग को उनके द्वारा दिए जा रहे समय को देख कर जाना जा सकता है .
हम उनकी हक़ीक़त जनहित में जगज़ाहिर कर देते हैं . सिर्फ इसी वजह से वह हमसे ख़ार खाती हैं. खाती रहें , सच कहना अपना काम है.

KHURSHID IMAM said...

bahut hi seedhi aur saaf bhasha me bahut kaam ki baat batai aapne anwar sahab. Badqismati se bharat me ek ajeeb se bhasha hai desh bhakti ki: jab tak musalamanon ko gali na do, bura bhala na kaho - tab tak desh bhakt nahi maana jaata. Aur ye sab hua hai desh ki sab se badi deshdrohi sanstha - jansangh aur unke jaisi dusre org ki wajah se. He ishwaar - logon ko sat budhdhi de.

‘ब्लॉग की ख़बरें‘

1- क्या है ब्लॉगर्स मीट वीकली ?
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_3391.html

2- किसने की हैं कौन करेगा उनसे मोहब्बत हम से ज़्यादा ?
http://mushayera.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

3- क्या है प्यार का आवश्यक उपकरण ?
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_18.html

4- एक दूसरे के अपराध क्षमा करो
http://biblesmysteries.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

5- इंसान का परिचय Introduction
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/07/introduction.html

6- दर्शनों की रचना से पूर्व मूल धर्म
http://kuranved.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

7- क्या भारतीय नारी भी नहीं भटक गई है ?
http://lucknowbloggersassociation.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

8- बेवफा छोड़ के जाता है चला जा
http://kunwarkusumesh.blogspot.com/2011/07/blog-post_11.html#comments

9- इस्लाम और पर्यावरण: एक झलक
http://www.hamarianjuman.com/2011/07/blog-post.html

10- दुआ की ताक़त The spiritual power
http://ruhani-amaliyat.blogspot.com/2011/01/spiritual-power.html

11- रमेश कुमार जैन ने ‘सिरफिरा‘ दिया
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

12- शकुन्तला प्रेस कार्यालय के बाहर लगा एक फ्लेक्स बोर्ड-4
http://shakuntalapress.blogspot.com/

13- वाह री, भारत सरकार, क्या खूब कहा
http://bhadas.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

14- वैश्विक हुआ फिरंगी संस्कृति का रोग ! (HIV Test ...)
http://sb.samwaad.com/2011/07/blog-post_16.html

15- अमीर मंदिर गरीब देश
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_18.html

16- मोबाइल : प्यार का आवश्यक उपकरण Mobile
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/mobile.html

17- आपकी तस्वीर कहीं पॉर्न वेबसाइट पे तो नहीं है?
http://bezaban.blogspot.com/2011/07/blog-post_18.html

18- खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम अब तक लागू नहीं
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

19- दुनिया में सबसे ज्यादा शादियाँ करने वाला कौन है?
इसका श्रेय भारत के ज़ियोना चाना को जाता है। मिजोरम के निवासी 64 वर्षीय जियोना चाना का परिवार 180 सदस्यों का है। उन्होंने 39 शादियाँ की हैं। इनके 94 बच्चे हैं, 14 पुत्रवधुएं और 33 नाती हैं। जियोना के पिता ने 50 शादियाँ की थीं। उसके घर में 100 से ज्यादा कमरे है और हर रोज भोजन में 30 मुर्गियाँ खर्च होती हैं।
http://gyaankosh.blogspot.com/2011/07/blog-post_14.html

20 - ब्लॉगर्स मीट अब ब्लॉग पर आयोजित हुआ करेगी और वह भी वीकली Bloggers' Meet Weekly
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/bloggers-meet-weekly.html

21- इस से पहले कि बेवफा हो जाएँ
http://www.sahityapremisangh.com/2011/07/blog-post_3678.html

22- इसलाम में आर्थिक व्यवस्था के मार्गदर्शक सिद्धांत
http://islamdharma.blogspot.com/2012/07/islamic-economics.html

23- मेरी बिटिया सदफ स्कूल क्लास प्रतिनिधि का चुनाव जीती
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_2208.html

24- कुरआन का चमत्कार

25- ब्रह्मा अब्राहम इब्राहीम एक हैं?

26- कमबख़्तो ! सीता माता को इल्ज़ाम न दो Greatness of Sita Mata

27- राम को इल्ज़ाम न दो Part 1

28- लक्ष्मण को इल्ज़ाम न दो

29- हरेक समस्या का अंत, तुरंत

30-
अपने पड़ोसी को तकलीफ़ न दो

साहित्य की ताज़ा जानकारी

1- युद्ध -लुईगी पिरांदेलो (मां-बेटे और बाप के ज़बर्दस्त तूफ़ानी जज़्बात का अनोखा बयान)
http://pyarimaan.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

2- रमेश कुमार जैन ने ‘सिरफिरा‘ दिया
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

3- आतंकवादी कौन और इल्ज़ाम किस पर ? Taliban
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/taliban.html

4- तनाव दूर करने की बजाय बढ़ाती है शराब
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

5- जानिए श्री कृष्ण जी के धर्म को अपने बुद्धि-विवेक से Krishna consciousness
http://vedquran.blogspot.com/2011/07/krishna-consciousness.html

6- समलैंगिकता और बलात्कार की घटनाएं क्यों अंजाम देते हैं जवान ? Rape
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/07/rape.html

7- क्या भारतीय नारी भी नहीं भटक गई है ?
http://lucknowbloggersassociation.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

8- ख़ून बहाना जायज़ ही नहीं है किसी मुसलमान के लिए No Voilence
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/07/no-voilence.html

9- धर्म को उसके लक्षणों से पहचान कर अपनाइये कल्याण के लिए
http://charchashalimanch.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

10- बाइबिल के रहस्य- क्षमा कीजिए शांति पाइए
http://biblesmysteries.blogspot.com/2011/03/blog-post.html

11- विश्व शांति और मानव एकता के लिए हज़रत अली की ज़िंदगी सचमुच एक आदर्श है
http://dharmiksahity.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

12- दर्शनों की रचना से पूर्व मूल धर्म
http://kuranved.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

13- ‘इस्लामी आतंकवाद‘ एक ग़लत शब्द है Terrorism or Peace, What is Islam
http://commentsgarden.blogspot.com/2011/07/terrorism-or-peace-what-is-islam.html

14- The real mission of Christ ईसा मसीह का मिशन क्या था ? और उसे किसने आकर पूरा किया ? - Anwer Jamal
http://kuranved.blogspot.com/2010/10/real-mission-of-christ-anwer-jamal.html

15- अल्लाह के विशेष गुण जो किसी सृष्टि में नहीं है.
http://quranse.blogspot.com/2011/06/blog-post_12.html

16- लघु नज्में ... ड़ा श्याम गुप्त...
http://mushayera.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

17- आपको कौन लिंक कर रहा है ?, जानने के तरीके यह हैं
http://techaggregator.blogspot.com/

18- आदम-मनु हैं एक, बाप अपना भी कह ले -रविकर फैजाबादी

19-मां बाप हैं अल्लाह की बख्शी हुई नेमत

20- मौत कहते हैं जिसे वो ज़िन्दगी का होश है Death is life

21- कल रात उसने सारे ख़तों को जला दिया -ग़ज़ल Gazal

22- मोम का सा मिज़ाज है मेरा / मुझ पे इल्ज़ाम है कि पत्थर हूँ -'Anwer'

23- दिल तो है लँगूर का

24- लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी - Allama Iqbal

25- विवाद -एक लघुकथा डा. अनवर जमाल की क़लम से Dispute (Short story)

26- शीशा हमें तो आपको पत्थर कहा गया (ग़ज़ल)