Thursday, September 1, 2011

‘तुम मुझे कमेंट दो मैं तुम्हें धन्यवाद दूंगा‘- अनवर जमाल

कल एक ख़बर पढ़ने में आई कि आईआईटी में लड़कियों की तादाद कम देखकर उन्हें प्रोत्साहन देने के मक़सद से यह तय किया गया है कि लड़कियों को दाखि़ले के लिए फ़ॉर्म मुफ़्त मिलेंगे हालांकि लड़कों के लिए फ़ीस बढ़ा दी गई है।
कुछ हिन्दी ब्लॉगर्स के संग रचना जी को भी यह फ़ैसला सही नहीं लगा।
इस पर हमने यह राय दी है कि
बात यह नहीं है कि फ़ॉर्म की फ़ीस के पैसे न देने से कुल कितनी रक़म की बचत हुई और वह कितनी छोटी या कितनी बड़ी है ?
बल्कि बात यह है कि लड़की को एक विशेष सम्मान उसके लड़की होने के कारण दिया जा रहा है।
यह सम्मान लड़की को घर में भी और बाहर भी हर जगह मिलना चाहिए और रही बात शिक्षा की तो वह तो शासन की ओर से लड़के और लड़की को प्रत्येक स्तर पर बिल्कुल मुफ़्त मिलनी चाहिए।
वर्ना जो मोटा माल शिक्षा पाने में लगाएगा तो फिर वह उसे कई गुना करके वसूलेगा भी, तब कोई यह शोर न मचाए कि ये लोग भ्रष्टाचार कर रहे हैं।
मोटा माल ख़र्च करके शिक्षा पाई है तो सदाचार के रास्ते पर चलने के लिए तो नहीं ही पाई है।
माल लगाया है तो माल कमाएगा भी।
जो इतनी मोटी फ़ीस नहीं दे पाएगा और उसके बच्चे पीछे रह जाएंगे क्योंकि वह सदाचार पर चलता है। यह देखकर वह भी सदाचार छोड़कर भ्रष्टाचार करेगा और किया जा रहा है ताकि उनके बच्चे आगे बढ़ें।
बच्चे आगे बढ़ रहे हैं और देश पीछे जा रहा है।
लड़कियों की तादाद में कमी का कारण भी यही है कि आदमी बेटी पर ख़र्च करके या उसका दहेज देने के बजाय अपना जीवन स्तर ऊंचा उठाना चाहता है।
सूदख़ोर सेठों का जीवन स्तर ऊंचा हो रहा है और ख़ुद वे नीचे गिरे हुए हैं।
अजीब हाल है कि व्यक्ति माल और रूतबे में ऊंचा उठ रहा है और आगे बढ़ रहा है और इंसानियत में समाज नीचे और पीछे जा रहा है और जो इन्हें समझाता है, उस पर ये बुद्धिजीवी (?) ऐतराज़ करते हैं। 

याद रखिए कि आप ‘ब्लॉग की ख़बरें‘ के मंच पर मौजूद हैं जो कि आपको ब्लॉग जगत की ताज़ा हलचल के बारे में जानकारी देने के लिए कटिबद्ध है और वक्षबद्ध भी।
यह वक्षबद्ध होना क्या होता है ?
क्या आप नहीं जानते ?
क्या आपने वह गाना सुना है ?
‘...चौड़ी छाती वीरों की‘

जो दूसरों के फटे में टांग अड़ाए, वह कटिबद्ध कहलाता है
और जो उसके बाद उठने वाले बवंडर को फ़ेस करे चौड़ी छाती के बल पर, वह वक्षबद्ध कहलाता है।
कटिबद्ध की गारंटी नहीं है कि वह मैदान छोड़कर नहीं भागेगा लेकिन वक्षबद्ध की गारंटी होती है।
है न मज़ेदार लफ़्ज़
‘वक्षबद्ध होना‘

यहां आपको ऐसी ही नई नई बातें मिलेंगी।
आपका यहां सदा स्वागत है लेकिन इस पोस्ट पर हमारी राय पर ज़रूर अपनी राय दें।
बिना धन्यवाद के और बिना आभार के यह पोस्ट आपको समर्पित है क्योंकि धन्यवाद और आभार जैसा काम आपने अभी तक इस पोस्ट के साथ किया ही नहीं है।
कमेंट दें और आभार आदि लें,

अतः कहा जा सकता है कि
‘तुम मुझे कमेंट दो मैं तुम्हें धन्यवाद दूंगा‘- अनवर जमाल

9 comments:

शालिनी कौशिक said...

ladkiyon ke liye aisee vyavasthayen aaj bhi zaroori hain kyonki ye ek aam soch ban chuki hai ki ladki ki padhai par kharch karen isse achchha ki uski shadi kar den isliye yadi ladki ki padhai me kuchh chhoti moti suvidhayen milen to shayad unke hit me achchha rahe.
ab dr.sahab comment to hamne kar diya aap dhanyawad kijiye.

DR. ANWER JAMAL said...

...तो फिर आप भी संभालिए हमारा
‘धन्यवाद‘ ♥

prerna argal said...

bilkul sach hai ladkiyon ke baare main abhi bhi kaafi logon ki soch nahi badali hai khhskar chote kashbon main.agar siksha main ladkiyon ko fees kam karenge yaa muft karenge tabhi ladkiyon ko sikshaa praapt karane ki choot milegi.nahi to log ladkiyon ki sikhsha per kharch karane se shaadi karanaa jyaadaa jaruri samajhte hain.kyonki padi likhi kamaau ladaki hone ke baad bhi ladakewaalon ki taraf se dahej ki maang to rahati hi hai.ladki ke maa pitaa per dohari maar padhti hai pahle to ladki ki padhai per kharch karen phir uski shaadi per.aur agar kamaau ladaki hai to uskaa phayadaa bhi ladake yaa uske sasuraalwaalon ko milataa hai.ladki ke maa pitaa ka to koi huq nahi rahataa.

रश्मि प्रभा... said...

kalam katibaddh hai ...

शिखा कौशिक said...

अनवर जमाल जी -
पूरी पोस्ट बहुत ध्यान से पढ़ी है .कटिबद्ध भी टूट जाते हैं और वक्षबद्ध भी .जो नहीं टूटता वो है -मनबद्ध.मन चंचल न हो तो सब काबू में और मन की चंचलता ले जाती है नैतिक पतन की ओर.मन को रखिये काबू में बस इतना ही कहना है .आभार एक सोचने को विवश करती पोस्ट हेतु .
GANESH CHATURTHI

DR. ANWER JAMAL said...

@ रश्मि प्रभा जी ! यह जानकर अच्छा लगा कि क़लम कटिबद्ध है लेकिन किस लोकेशन पर ?

क़लम को घूमते हुए कभी HBFI पर भी आना चाहिए न ?

धन्यवाद !

@ प्रेरणा जी ! सहमति जताने के लिए धन्यवाद !

DR. ANWER JAMAL said...

@ शिखा जी ! धन्यवाद ।
अच्छा होता कि आप यह भी बता देतीं कि IIT में लड़कियों के लिए छूट के मुददे पर आप हमसे सहमत हैं या नहीं ?
वास्तव में यही मुख्य प्रश्न है लेकिन वक्षबद्ध शब्द आपको मनबद्ध कर गया अर्थात मोहित कर गया ।

आपने इंजॉय किया अच्छा लगा ।

शिखा कौशिक said...

asahmatika saval hi kahan hai .

DR. ANWER JAMAL said...

...तो आपका भी धन्यवाद !

‘ब्लॉग की ख़बरें‘

1- क्या है ब्लॉगर्स मीट वीकली ?
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_3391.html

2- किसने की हैं कौन करेगा उनसे मोहब्बत हम से ज़्यादा ?
http://mushayera.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

3- क्या है प्यार का आवश्यक उपकरण ?
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_18.html

4- एक दूसरे के अपराध क्षमा करो
http://biblesmysteries.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

5- इंसान का परिचय Introduction
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/07/introduction.html

6- दर्शनों की रचना से पूर्व मूल धर्म
http://kuranved.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

7- क्या भारतीय नारी भी नहीं भटक गई है ?
http://lucknowbloggersassociation.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

8- बेवफा छोड़ के जाता है चला जा
http://kunwarkusumesh.blogspot.com/2011/07/blog-post_11.html#comments

9- इस्लाम और पर्यावरण: एक झलक
http://www.hamarianjuman.com/2011/07/blog-post.html

10- दुआ की ताक़त The spiritual power
http://ruhani-amaliyat.blogspot.com/2011/01/spiritual-power.html

11- रमेश कुमार जैन ने ‘सिरफिरा‘ दिया
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

12- शकुन्तला प्रेस कार्यालय के बाहर लगा एक फ्लेक्स बोर्ड-4
http://shakuntalapress.blogspot.com/

13- वाह री, भारत सरकार, क्या खूब कहा
http://bhadas.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

14- वैश्विक हुआ फिरंगी संस्कृति का रोग ! (HIV Test ...)
http://sb.samwaad.com/2011/07/blog-post_16.html

15- अमीर मंदिर गरीब देश
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_18.html

16- मोबाइल : प्यार का आवश्यक उपकरण Mobile
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/mobile.html

17- आपकी तस्वीर कहीं पॉर्न वेबसाइट पे तो नहीं है?
http://bezaban.blogspot.com/2011/07/blog-post_18.html

18- खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम अब तक लागू नहीं
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

19- दुनिया में सबसे ज्यादा शादियाँ करने वाला कौन है?
इसका श्रेय भारत के ज़ियोना चाना को जाता है। मिजोरम के निवासी 64 वर्षीय जियोना चाना का परिवार 180 सदस्यों का है। उन्होंने 39 शादियाँ की हैं। इनके 94 बच्चे हैं, 14 पुत्रवधुएं और 33 नाती हैं। जियोना के पिता ने 50 शादियाँ की थीं। उसके घर में 100 से ज्यादा कमरे है और हर रोज भोजन में 30 मुर्गियाँ खर्च होती हैं।
http://gyaankosh.blogspot.com/2011/07/blog-post_14.html

20 - ब्लॉगर्स मीट अब ब्लॉग पर आयोजित हुआ करेगी और वह भी वीकली Bloggers' Meet Weekly
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/bloggers-meet-weekly.html

21- इस से पहले कि बेवफा हो जाएँ
http://www.sahityapremisangh.com/2011/07/blog-post_3678.html

22- इसलाम में आर्थिक व्यवस्था के मार्गदर्शक सिद्धांत
http://islamdharma.blogspot.com/2012/07/islamic-economics.html

23- मेरी बिटिया सदफ स्कूल क्लास प्रतिनिधि का चुनाव जीती
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_2208.html

24- कुरआन का चमत्कार

25- ब्रह्मा अब्राहम इब्राहीम एक हैं?

26- कमबख़्तो ! सीता माता को इल्ज़ाम न दो Greatness of Sita Mata

27- राम को इल्ज़ाम न दो Part 1

28- लक्ष्मण को इल्ज़ाम न दो

29- हरेक समस्या का अंत, तुरंत

30-
अपने पड़ोसी को तकलीफ़ न दो

साहित्य की ताज़ा जानकारी

1- युद्ध -लुईगी पिरांदेलो (मां-बेटे और बाप के ज़बर्दस्त तूफ़ानी जज़्बात का अनोखा बयान)
http://pyarimaan.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

2- रमेश कुमार जैन ने ‘सिरफिरा‘ दिया
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

3- आतंकवादी कौन और इल्ज़ाम किस पर ? Taliban
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/taliban.html

4- तनाव दूर करने की बजाय बढ़ाती है शराब
http://hbfint.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

5- जानिए श्री कृष्ण जी के धर्म को अपने बुद्धि-विवेक से Krishna consciousness
http://vedquran.blogspot.com/2011/07/krishna-consciousness.html

6- समलैंगिकता और बलात्कार की घटनाएं क्यों अंजाम देते हैं जवान ? Rape
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/07/rape.html

7- क्या भारतीय नारी भी नहीं भटक गई है ?
http://lucknowbloggersassociation.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

8- ख़ून बहाना जायज़ ही नहीं है किसी मुसलमान के लिए No Voilence
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/07/no-voilence.html

9- धर्म को उसके लक्षणों से पहचान कर अपनाइये कल्याण के लिए
http://charchashalimanch.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

10- बाइबिल के रहस्य- क्षमा कीजिए शांति पाइए
http://biblesmysteries.blogspot.com/2011/03/blog-post.html

11- विश्व शांति और मानव एकता के लिए हज़रत अली की ज़िंदगी सचमुच एक आदर्श है
http://dharmiksahity.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

12- दर्शनों की रचना से पूर्व मूल धर्म
http://kuranved.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

13- ‘इस्लामी आतंकवाद‘ एक ग़लत शब्द है Terrorism or Peace, What is Islam
http://commentsgarden.blogspot.com/2011/07/terrorism-or-peace-what-is-islam.html

14- The real mission of Christ ईसा मसीह का मिशन क्या था ? और उसे किसने आकर पूरा किया ? - Anwer Jamal
http://kuranved.blogspot.com/2010/10/real-mission-of-christ-anwer-jamal.html

15- अल्लाह के विशेष गुण जो किसी सृष्टि में नहीं है.
http://quranse.blogspot.com/2011/06/blog-post_12.html

16- लघु नज्में ... ड़ा श्याम गुप्त...
http://mushayera.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html

17- आपको कौन लिंक कर रहा है ?, जानने के तरीके यह हैं
http://techaggregator.blogspot.com/

18- आदम-मनु हैं एक, बाप अपना भी कह ले -रविकर फैजाबादी

19-मां बाप हैं अल्लाह की बख्शी हुई नेमत

20- मौत कहते हैं जिसे वो ज़िन्दगी का होश है Death is life

21- कल रात उसने सारे ख़तों को जला दिया -ग़ज़ल Gazal

22- मोम का सा मिज़ाज है मेरा / मुझ पे इल्ज़ाम है कि पत्थर हूँ -'Anwer'

23- दिल तो है लँगूर का

24- लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी - Allama Iqbal

25- विवाद -एक लघुकथा डा. अनवर जमाल की क़लम से Dispute (Short story)

26- शीशा हमें तो आपको पत्थर कहा गया (ग़ज़ल)